December 5, 2021

पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार वाराणसी

Spread the love

पत्र सूचना कार्यालय

भारत सरकार

वाराणसी

दिनांक 22-01-2019

दुनिया आज भारत के सुझावों को गंभीरता से सुन और समझ रही है- मोदी

“भारत बदल नहीं सकता है” हमने लोगों की इस सोच को बदल दिया है-मोदी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने 15वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का किया उद्घाटन

मॉरीशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविंद जगन्‍नाथ मुख्‍य अतिथि के रूप में रहे मौजूद

प्रवासी भारतीय दिवस 2019 का विषय है- ‘नये भारत के निर्माण में भारतीय प्रवासियों की भूमिका’

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने मंगलवार को वाराणसी, उत्‍तर प्रदेश में 15वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का उद्घाटन किया। इस मौके पर मारीशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविंद जगन्नाथ मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। डॉ. भीमराव अम्बेडकर राज्य स्तरीय क्रीड़ा संकुल में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले लोग कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता है लेकिन हमने यह सोच ही बदल दी। दुनिया आज हमारे देश के सुझावों को गंभीरता के साथ सुन और समझ रही है। उन्होंने कहा कि बीते साढ़े चार वर्ष में भारत ने दुनिया में अपना स्वाभाविक स्थान पाने की दिशा में एक बड़ा कदम बढ़ाया है। आज भारत दुनिया की तेज़ी से बढ़ती आर्थिक ताकत है और खेल जगत में भी हम बड़ी शक्ति बनने की तरफ निकल पड़े हैं। हम ऐसे संसाधन तैयार कर रहे हैं जिससे अनेक देशों की समस्या दूर हो सकती हैं। श्री मोदी ने आगे कहा कि पर्यावरण की सुरक्षा और विश्व की प्रगति में दुनिया हमारा योगदान स्वीकार कर रही है। इंटरनेशनल सोलर अलायंस के माध्यम से दुनिया को हम वन सन, वन ग्रिड की ओर ले जाना चाहते हैं। हम रिफॉर्म, परफॉर्म, ट्रांसफॉर्म और सबका साथ-सबका विकास के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि हमने डी बी टी यानी खातों में सीधे अन्तरण के माध्यम से एक रुपए में से 85 पैसे की लूट को शत-प्रतिशत खत्म कर दिया है। बीते साढ़े चार साल में करीब 5 लाख 80 हजार करोड़ रुपए (80 बिलियन डॉलर) सीधे लोगों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर हुए है। बीते साढ़े 4 वर्षों के दौरान संकट में फंसे दो लाख से ज्यादा भारतीयों को इस सरकार के प्रयासों से मदद मिली है।

श्री मोदी ने भारत के विकास में प्रवासियों को योगदान देने के लिए कई सुझाव भी दिए। उन्होंने कहा कि आप जहां भी रहते हैं, यदि वहां से अपने आसपास के कम से कम 5 परिवारों को भारत आने के लिए प्रेरित करेंगे तो आपका यह प्रयास देश में टूरिज्म बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा। उन्होंने बताया कि पासपोर्ट के साथ-साथ वीज़ा से जुड़े नियमों को भी सरल बनाने के दिशा में काम किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने प्रवासी भारतीयों से मुखातिब होते हुए कहा कि काशी और आपमें एक समानता है। काशी भारत के संस्कृतिक और दार्शनिक ज्ञान से दुनिया को चिरकाल से परिचित कराती रही है तो प्रवासी भी दुनिया को भारत की ऊर्जा से परिचित करा रहे हैं। उन्होंने काशीवासियों को धन्यवाद दिया और कहा कि इनके स्नेह ने इस कार्यक्रम को जनता जनार्दन का कार्यक्रम बना दिया।

मॉरीशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविंद जगनाथ ने कहा कि हम संस्कृति की गोद में हैं और यहां से गंगा जी का आशीर्वाद लेकर अपने अपने देश जायेंगे। उन्होंने स्किल इंडिया, मेक इन इंडिया, बेटी बचाओ, आयुष्मान भारत समेत नरेंद्र मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं की तारीफ की। भारत व फ्रांस के बीच सोलर प्लांट समझौता को ऐतिहासिक बताया और कहा कि अगले महीने मॉरीशस में हरियाणा सरकार के सहयोग से गीता महोत्सव का आयोजन किया जायेगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा आज नरेंद्र मोदी जी के प्रभावी नेतृत्व के कारण भारत की प्रतिष्ठा बाहर के देशों में बढ़ी है। उन्होंने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में मॉरीशस के लोगों ने अपनी संस्कृति बचा रखी है। अपने रीति रिवाजों को संजोए रखने का यह अनुपम उदाहरण है।

प्रवासी भारतीय सम्मेलन के आज के मुख्य आयोजन को सम्बोधित करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि यह दिवस अटल जी की देन है इसलिए यह उनके स्मृति का भी समय है। प्रधानमंत्री मोदीजी ने इस दिवस की गरिमा बढ़ाने के साथ इसमें जान भी फूंक दी और उन्होंने भारतवंशियों से सीधा संवाद स्थापित करने का प्रयास किया। सुषमा स्वराज ने आगे कहा कि नरेंद्र मोदी जी के प्रभावी नेतृत्व के कारण भारत की प्रतिष्ठा विदेशों में बढ़ी है और उससे आप लोगों का गौरव और सम्मान भी बढ़ा है। उन्होंने मारीशस के प्रधानमंत्री का आभार जताया और कहा कि मारीशस को हमलोग छोटा भारत ही मानते हैं। कार्यक्रम के दौरान “भारत को जानिए” क्विज कांटेस्ट के विजेताओं को भी पुरस्कृत किया गया।

पहली बार वाराणसी में 21 से 23 जनवरी 2019 तक तीन दिवसीय सम्‍मेलन का आयोजन किया जा रहा है। प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन 2019 का विषय है- नये भारत के निर्माण में भारतीय प्रवासियों की भूमिका। इसबार अधिकांश प्रवासी भारतीयों की कुंभ मेले और गणतंत्र दिवस समारोह में शरीक होने की भावनाओं का सम्‍मान करते हुए इस 15वें प्रवासी भारतीय सम्‍मेलन को 9 जनवरी के बजाय 21 से 23 जनवरी 2019 को आयोजित किया जा रहा है। सम्‍मेलन के बाद प्रतिभागी 24 जनवरी को कुंभ मेले में शामिल होने के लिए प्रयागराज की यात्रा करेंगे। 25 जनवरी को प्रवासी जन दिल्‍ली के लिए प्रस्‍थान करेंगे और 26 जनवरी, 2019 को नई दिल्‍ली में गणतंत्र दिवस परेड देखेंगे।

***

एएस/एकेटी/एसकेटी/पीके/एमयूके