January 19, 2022

*ऐतिहासिक रूप से देश को बेवकूफ बनाया गया आज संसद में..बजट नाम का तमाशा हुआ है..पढिये*..

Spread the love

*ऐतिहासिक रूप से देश को बेवकूफ बनाया गया आज संसद में..बजट नाम का तमाशा हुआ है..पढिये*..

● 6000 ₹ प्रति वर्ष किसानो को? 16.66 ₹ प्रति दिन..एक पैकेट ब्रेड का दाम कितना है पीयूष गोयल जी ?

● किसान को व्याज पर 2% छूट? केवल NDRF डिजास्टर अप्रूवल के बाद..0.5% किसान भी इस दायरे में नही आयेंगे..1 लाख पर 2% यानी साल का 2 हजार..

● किसान तो 50 हजार के लोन पर आत्महत्या कर रहा है..और मोदी जी साल का 6000 देगें? कांग्रेस तो 18,000 साल का मिनिमम बोल रही है..

● प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की लूट पर कोई लगाम नही..6000 देंगे और 60,000 करोड़ लूट लेंगे..

● गोकुल मिशन यानी गाय पर 750 करोड़..पशु व्यापार 3 लाख करोड़ का था..बंद है..गाय बिकेगी नही तो 75000 करोड़ भी कम है..

● मजदूरो के लिये 3000 ₹ पेंशन 100₹ में? 12 ₹ वाला बीमा का क्या हुआ? ये एक नई स्कीम है बीमा कम्पनियो की लूट के लिए..आयुष्मान योजना फुस्स!!

● 2% GST पर MSME को छूट पर केवल रजिस्टर्ड को..पूरी MSME GST से बाहर करो..बर्बाद है MSME..

● 5 लाख तक इनकम टैक्स पर छूट..पर अप्रैल 2019 से..4 साल तक क्यों नही किया? फायदा बस 13,000 ₹..देश मे 90% 5 लाख ₹ से नीचे कमाते है..

● रेंट पर 2.40 लाख तक छूट..पहले 1.80 लाख थी..ये कुछ हद तक ठीक है..40,000 ₹ व्याज पर TDS नही भी ठीक है..

● रक्षा बजट 2.95 लाख करोड़ से 3 लाख करोड़ यानी 2% वृद्धि..पर कैपिटल बजट यानी शस्त्र बजट निम्नतम स्तर पर.

● नौकरी के लिये क्या है? जॉब क्रिएशन, एडुकेशन? सरकारी नौकरी भर्ती का क्या? 21,000 महीना कमाने वाले को बोनस..नौकरी है कहा?

● NPA पर कुछ नही था..मैन्युफैक्चरिंग, एक्सपोर्ट पर कुछ नही..जबकि मोदी जी ने बोला था जल्द तेल गैस का इम्पोर्ट बन्द हो जाएगा और हम $5 ट्रिलियन की इकॉनमी बनेंगे..

● दूसरा घर खरीदने पर 1 साल की नोशनल छूट..अरे भाई, दूसरा घर 5% जनता के पास भी नही है..

● ग्रेचुइटी की लिमिट बढ़ाना अच्छी बात है..पर हजारो करोड़ो की ग्रेचुइटी रोक रखी है मोदी ने..पेमेंट तो करो..

● रियल एस्टेट का क्या? 650 मिलियन स्क्वायर फिट बिक नही रहा है..ये जीडीपी का लगभग 2% है..

● शेयर मार्केट रिफॉर्म 1% से कम लोगो को प्रभावित करता है..ये फील गुड है..

*बजट में संसाधन कहाँ से आयेगा ये नही बताया गया है..केवल घोषणाये है*..