January 21, 2021

आनंदपुरम में आनंद ही आनंद आता है – एस एम श्रीवास्तव की रिपोर्ट!

Spread the love

सोनभद्र!म्योरपुर एयरपोर्ट के लिंक एयरपोर्ट के रूप में चयन के बाद यहां एयरपोर्ट का विस्तारीकरण और

सवारी उडा़न हेतु तैयारी जोरों पर है! इसी के साथ हरे भरे पहाडी़ अंचल में बसा कस्बा म्योरपुर चर्चाओं मे आ गया है!

वाराणसी छ.ग. प्रमुख मार्ग पर वाराणसी से दक्षिण लगभग 180 किमी दूर म्योरपुर जिले का एक प्रमुख ब्लाक मुख्यालय है जो छग हाइवे और इसके आसपास स्थित है! म्योरपुर ब्लाक क्षेत्र मे विश्व स्तरीय अनेक बिजली परियोजनाये कोयलरी कयी कल कारखाने स्थित हैं! अब यहां से हवाई उडा़न प्रारम्भ करने की कवायदों के बीच कस्बे का तेजी से विकास हो रहा है! बीते दो तीन सालों मे ही यहां जमीन की कीमतें आसमान छूने लगी हैं! कल तक जहां खेत थे आज वहां मकान ही मकान नजर आते हैं! बताते चले कि लगभग दस साल पूर्व तत्कालीन ग्राम प्रधान श्रीमती पुष्पादेवी और उनके समाजसेवी पति श्री सोनाबच्चा अग्रहरी ने अपनी दूरदर्शी सोच को अमली जामा पहचाते हुये एयरपोर्ट रोड और छ.ग. हाइवे को एक लिंक रोड बना कर जोड़ने का सराहनीय कार्य किया जिसकी वजह से इधर वीरान इलाके में सबसे पहले एक इंगलिश मीडियम स्कूल मून स्टार की इमारत बनाई गयी थी ।

 

फिर धीरे धीरे इधर पूरी एक कालोनी आबाद हो गयी जो अपने सुंदर मनोरम स्वरूप के चलते लोगो की सुबह शाम सैर की मुफीद जगह बन चुकी है!

अभी तक लोग इसे केवल मून स्टार रोड के नाम से ही जानते थे मगर चूंकि यह इलाका मून स्टार स्कूल से हट कर उत्तर पश्चिम दक्षिण आदि दिशाओ मे चारो तरफ फैला हुआ है तो यहां के रहवासियों ने आपसी सलाह मशवरे से इस कालोनी का नया नामकरण *आनंदपुरम* कालोनी के नाम से किया है जो सबको पसंद आ रहा है! हरे भरे शांत प्राकृतिक वातावरण मे आबाद आनंदपुरम के दो तीन सौ मीटर पश्चिम विशाल वन क्षेत्र व दक्षिण मे कल कल बहती जटखर नदी पूरब में नजदीक ही छग हाइवे और ठीक उत्तर सामने दिखता प्रसिhttps://www.mvdindianews.in/बाबा-राम-सिंह-ने-खुद-को-गोल/द्ध एयरपोर्ट इस आनंदपुरम को बहुत ही खास बना देता है!
इस कालोनी मे अधिकांश नौकरी पेशा शिक्षित वकील डाक्टर शिक्षक सरकारी कर्मचारी बाजार के कोलाहल से दूर आनंदपुरम मे शांतिपूर्वक निवास करते हैं! आनंदपुरम की बात ही निराली है! पिछले दो चार वर्षो मे ही यह भरी पूरी कालोनी बन चुकी है!
जो भी बाहरी ब्यक्ति यहां आता है तो उसे आनंदपुरम का गोलाई मे घूमता भौगोलिक स्वरूप अपनी ओर आकर्षित कर लेता है!