January 21, 2022

शाहरुख के अनुसार रईस बनारसी के साथ मिलकर कितनो को टपकाया,जानिए किस तरह से बनी D-20 Gang

Spread the love

वाराणसी। बनारस पुलिस द्वारा अपराधियों के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत गुरुवार की रात मुठभेड़ में ₹25 हजार का इनामी बदमाश मो. शाहरूख अपने साथी अमन सोनी के साथ गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार को एसएसपी आनंद कुलकर्णी खबरनवीसों को जानकारी दी कि दोनों के पास कब्जे से 2 पिस्टल .32 बोर, 14 जिन्दा व 5 खोखा कारतूस .32 बोर, अपाचे बाइक और 2 अदद मोबाइल फोन बरामद किया गया है।

बताया कि गत दिनों क्राइम ब्रांच व दशाश्वमेघ पुलिस द्वारा राकेश अग्रहरी और रईस बनारसी हत्याकाण्ड का खुलासा किया गया था। इसमें शाहरूख व रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू वांछित थे। दो दिन पहले शहर के एक कारोबारी को शाहरूख ने जान से मारने की धमकी देकर फिरौती मांगी थी। मामला संज्ञान में आने के बाद शाहरुख की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच की टीम को लगाया गया था।

रात क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह टेंट सिटी से लौट रहे थे। उन्हें एसओ शिवपुर नागेश सिंह फोर्स के साथ रास्ते में मिले। इसी दौरान क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह को सूचना मिली कि दो शातिर अपराधी असलहा ले कर किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के फेर में रिंग रोड की ओर जा रहे हैं। कंट्रोल रूम को अवगत कराते हुए फोर्स ने रिंग रोड अंडरपास के पास चेकिंग करना शुरू किया। दो युवक सफेद रंग के अपाचे बाइक से आते दिखे। रुकने का इशारा करने पर दोनों फायरिंग करने लगे।

बदमाशों द्वारा की जा रही फायरिंग में एक गोली एसओ शिवपुर के सीने पर लगी। बुलटप्रूफ जैकेट की वजह से वह बाल-बाल बच गये। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने फायरिंग करते हुए दोनों का पीछा करना शुरू किया। थोड़ी दूर पर बाइक फिसल कर गिर जाने के बाद भी दोनों बदमाश फायरिंग करते रहे। पुलिस वालों ने जवाबी कार्रवाई में दोनों को धर दबोचा। फायरिंग में गोली शाहरुख पैर में लगी। उसे इलाज के लिए पंडित दीनदयाल अस्पताल ले जाया गया। बाद में उसे बीएचयू ट्रामा सेंटर पहुंचाया गया।

गिरफ्तार अभियुक्तों में मो. शाहरूख पुत्र मो. शकील सी.के 43/87 छत्तातले छोटी मस्जिद के पास का रहने वाला है। अमन सोनी पुत्र अनिल चन्द्र चंचल निवासी सी.के. 33/63 नीलकंठ,सरस्वती फाटक की तलाश भी पुलिस पर लंबे अरसे से थी।

शाहरुख ने बताया अब तक कई को टपका चुका

पूछताछ में शाहरुख ने बताया कि हम लोग सनी सिंह गैंग के लिए हत्या, फिरौती, लूट और छिनैती का काम करते थे। सनी सिंह के इनकांउटर के बाद हमलोगों ने अपने गैंग बना लिया था। गैंग का लीडर फैजान है। वह इस वक्त जेल में बंद है। हम लोग बनारस में डाक्टरों, कारोबारियों, नेताओं से जान से मारने की धमकी देकर फिरौती वसुलते थे। कारोबारी शेखू की हत्या कर पहली बार अपनी दहशत फैलाई थी। फिरौती की रकम न मिलने पर शहर के बैग कारोबारी की हत्या करवा दिया था। हाल में ही रईस बनारसी व राकेश अग्रहरी के बीच जो गैंगवार हुआ था उसमें मैं और अमन मलिक भी शामिल थे। पुलिस के डर से अमन मलिक ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। दो दिन पहले मैंने चौक क्षेत्र के कारोबारी से रंगदारी मांगी है। मुकदमा वापस लेने के लिए धमकाया भी है। हम लोगों ने गाजीपुर, चंदौली, मीरजापुर, बनारस ,आजमगढ़ सहित कई जिलों में लूट-छिनैती के वारदात को अंजाम दिया है। रईस बनारसी व दीपक वर्मा के साथ मिलकर भाड़े पर कई हत्या भी किया। हम लोग शिवपुर के एक कारोबारी की हत्या करने जा रहे थे कि पुलिस से सामना हो गया। पकड़े गए कुख्यात शाहरुख की गैंग संख्या डी-20 अंतरजनपदीय गैंग के तौर पर पंजीकृत है।

इनामी शाहरुख की क्रिमिनल हिस्ट्री

:- मु.अ.सं-36/19 धारा-307/34/427/41/411 भादवि थाना शिवपुर।

:- मु.अ.सं-37/19 धारा-3/25 आर्म्स एक्ट थाना शिवपुर।

:- मु.अ.सं-22/19 धारा-386 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं-113/18 धारा-302 भादवि थाना-दशाश्वेमेध।

:- मु.अ.सं-70/18 धारा-386 /120 बी/506 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं-107/18 धारा-147/148/149/504/506 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं.-237/17 धारा-120बी/302 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं.-216/17 धारा-3(1) यू.पी. गैगेस्टर थाना- चौक।

:- मु.अ.सं.-268/17 धारा-386 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं-186/16 धारा-307/386/504/506 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं-188/16 धारा-307/504/506 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं -96/16 धारा-366/323/506 भादवि थाना चौक।

:- मु.अ.सं- 38/11 धारा-401 भादवि थाना- चौक।

:- मु.अ.सं-40/11 धारा-4/25 आर्म्स एक्ट थाना चौक।

अमन सोनी भी कम नहीं, ये है क्रिमिनल रिकॉर्ड

:- मु.अ.सं -36/19 धारा-307/34/427/41/411 भादवि थाना शिवपुर।

:- मु.अ.सं-38/19 धारा-3/25 आर्म्स एक्ट थाना शिवपुर।

:-मु.अ.सं -9