January 21, 2022

वाराणसी:प्रेम प्रपंच में दरोगा जी के खिलाफ दर्ज हुआ हत्या के मुकदमा।

Spread the love

जंसा/ थाने में तैनात दरोगा संजय दुबे(चौकी प्रभारी रामेश्वर)की बेवफाई से क्षुब्ध होकर 32 वर्षीय प्रेमिका ने पिछले 6 नवंबर को जंसा थाना परिसर में जहर खा कर आत्महत्या का प्रयास किया था।जिसकी दो दिन बाद बीएचयू के ट्रामा सेंटर में मौत हो गई।पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया था ! इस मामले में दरोगा की प्रेमिका के पति उमेश सिंह ने जंसा थाने में दरोगा के खिलाफ अनिक्छित हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया है।वहीं दरोगा अपनी मोबाइल स्विच ऑफ करके थाने से फरार हो गए हैं।इस मामले में एसएससी आनंद कुलकर्णी ने दरोगा को निलंबित कर दिया है।जंसा पुलिस निलंबन आदेश का तामिला कराने के लिए एक सिपाही को उनके गृह गांव भेजा है।चर्चा यह भी है कि निलंबित दरोगा को अधिकारियों ने गैर जनपद स्थानांतरित कर दिया है। परंतु इस आशय का आदेश जंसा पुलिस को नहीं मिला है। बता दें कि पिछले 05 नवंबर की शाम रामेश्वर चौकी प्रभारी संजय दुबे की प्रेमिका अपने दो बच्चों के साथ रामेश्वर पुलिस चौकी पर पहुंची थी।उसके बाद किसी बात को लेकर दरोगा से महिला का बाद विवाद भी हुआ।फिर उसके बाद दोनों लोग रात भर एक साथ भी रहे।लेकिन दोनों के बीच आपसी तालमेल नहीं हुआ।वही दरोगा महिला से बहाना बनाकर कहीं चले गए थे।महिला 06 नवंबर को दोपहर दरोगा को खोजते हुए जंसा थाने पर पहुंची।जहां दरोगा संजय दुबे के ऊपर प्यार में बेवफाई का आरोप लगा कर जोर जोर से चिल्लाने लगी।थाना परिसर में दोनों के बीच जमकर कहासुनी और विवाद भी हुआ।उसके बाद महिला ने अपने पर्स से जहरीली दवा निकाल कर खा लिया।अचेता अवस्था में पुलिसकर्मियों ने उसे रोहनिया स्थित एक निजी अस्पताल पहुंचाया।वहां हालत बिगड़ने पर उसे बीएचयू के ट्रामा सेंटर में ले जाकर भर्ती करवाया गया।जहां दो दिन बाद उसकी मृत्यु हो गई। मृतक महिला के पति लंका थाना क्षेत्र के सुंदरपुर निवासी उमेश सिंह हैं जो सेना में नौकरी करते हैं।

फोटो*

प्रेमी