October 21, 2021

*राष्ट्रीय मतदाता दिवस उत्सव के रूप में मनाया गया*

Spread the love

*राष्ट्रीय मतदाता दिवस उत्सव के रूप में मनाया गया*

*भारत को दुनिया के सबसे बड़े और समृद्ध लोकतंत्र के रूप में जाना जाता है*

*मताधिकार का प्रयोग करना आनंद का अनुभव कराता है- कमिश्नर*

*अंगुलियों पर लगने वाले अमिट स्याही को मतदाता स्वाभिमान के साथ अपने सोशल मीडिया पर अपलोड करता है- दीपक अग्रवाल*

*जनपद का व्यक्ति जो मतदाता के रूप में दर्ज है, मतदान अवश्य करें-जिलाधिकारी*

*लोकतंत्र में सहभागिता का कम होना, सबसे बड़ी चिंता का विषय है-सुरेंद्र सिंह*

लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव मतदान होता है। मतदान हमारा अधिकार है व सबसे बड़ी ताकत भी है। लोकतंत्र व देश को ताकत देने के लिए मतदान अवश्य करें। इन्हीं संदेशों के साथ राष्ट्रीय मतदाता दिवस जनपद में पूरे जोश एवं उत्साह के साथ मनाया गया।
कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने मताधिकार पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उन देशों के लोगो से जाने जहां के लोगों को मताधिकार का प्रयोग अब भी नहीं है। उन देशों के लोगों से यदि यह पूछा जाए कि उन्हें विकास चाहिए या मताधिकार, तो निश्चित रूप से वहां के लोग मताधिकार का अधिकार चाहेंगे। दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में मताधिकार देना काफी महत्वपूर्ण कार्य हैं। उन्होंने कहा कि 70 साल का इतिहास बताता है कि लोकतंत्र में भारत कैसे मजबूत व विकास किया है। विशेष रूप से जोर देते हुए उन्होंने कहा कि अब वर्तमान समय में कम से कम समय में ही व्यक्ति अपने मताधिकार का प्रयोग कर लेता है।
कमिश्नर दीपक अग्रवाल शुक्रवार को राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर सिगरा स्थित डॉक्टर संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में के पर मौजूद लोगों को मताधिकार के महत्व से रूबरू करा रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत के चुनाव आयोग की विश्वसनीयता पूरे विश्व में है। 15-20 वर्षों में इतना बदलाव आया है कि मताधिकार का प्रयोग करना आनंद का अनुभव कराता है। मताधिकार के दौरान अंगुलियों पर लगने वाले अमिट स्याही को मतदाता स्वाभिमान के साथ अपने सोशल मीडिया पर अपलोड करता है। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि भारत को दुनिया के सबसे बड़े और समृद्ध लोकतंत्र के रूप में जाना जाता है। भारत में सरकारों का चयन प्रत्यक्ष वोटिंग प्रणाली के द्वारा होता है, जिसमें 18 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोग अपने प्रतिनिधि का चयन करते हैं। इसीलिये भारतीय नागरिकों को वोट डालने के प्रति जागरुक और प्रोत्साहित करने के लिए हर साल 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। भारतीय मतदाताओं को अधिक से अधिक मात्रा में वोट डालने के लिए प्ररित करने के लिए साल 2011 में राष्ट्रीय मतदाता दिवस की शुरुआत हुई। चुनाव आय़ोग हर साल 1 जनवरी के बाद 18 साल की उम्र को पूरी करने वाले लोगों को इनरोल करने के लिए विशेष अभियान चलाता है। नेशनल वोटर्स डे को भारत के जीवंत लोकतंत्र और जनता के वोट डालने के अधिकार को उत्सव के रूप में मनाया जाता है।
उन्होंने इस दौरान लोगों से अपील की कि आगामी लोकसभा निर्वाचन के दौरान उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक मताधिकार करने वाले जनपद एवं मंडल में वाराणसी जिला एवं वाराणसी मंडल अग्रणी रहे। मताधिकार का प्रयोग प्रत्येक दशा में किए जाने पर उन्होंने विशेष जोर देते हुए कहा कि यह मतदाता का संवैधानिक अधिकार है और इस अधिकार को प्रत्येक मतदाताओं को पूरे जोश के साथ प्रयोग किया जाना चाहिए।
जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने कहां कि जनपद का व्यक्ति जो मतदाता के रूप में दर्ज है मतदान अवश्य करें। जाति, धर्म से ऊपर उठकर मतदान करें। जनहित में, देश हित में एवं लोक हित में मतदान करें। उन्होंने कहा कि आज लोकतंत्र में जो भागीदारी है वह बहुत कम है और लोकतंत्र में सहभागिता का कम होना, सबसे बड़ी चिंता का विषय है और लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ी खतरा भी है। उन्होंने उन छोटे बच्चों को जो अभी मतदाता नहीं है। उनके उत्साह की सराहना की और उनसे मतदाताओं को प्रेरणा लेने की सीख दी। उन्होंने कहा कि वे संदेश दे रहे हैं कि मतदान करना कितना महत्वपूर्ण है। निर्भीक मतदान करना महत्वपूर्ण है। यह बहुत जरूरी है लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए। जिलाधिकारी ने अपील करते हुए कहां की आज से हम एक अभियान चलाएं। यह अभियान घर बैठे चलेगा, दुकानों पर व्यवसाय करते हुए चलेगा, स्कूलों में पढ़ते हुए चलेगा। हम लोगों से अभी से वचन पत्र भरवाएंगे और संकल्प दिलाएंगे कि संबंधित मतदाता मतदान करने जरूर जाएंगे। छोटे बच्चे अगर संकल्प पत्र भरवाएंगे तो बड़े लोगों को निश्चित रूप से एहसास होगा और वे अपने मताधिकार के प्रति जागरूक होंगे। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि एक जिम्मेदार मतदाता के रूप में हम आगामी चुनाव में अपना वोट डालेंगे। यह संकल्प पत्र चुनाव कार्यालय से व इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।
इस अवसर पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने लोगों को मताधिकार के प्रति जागरूक करते हुए अपने मताधिकार का प्रयोग किए जाने हेतु संकल्प भी दिलाया।
इससे पूर्व विभिन्न विभागों की ओर से प्रातः कचहरी स्थित विकास भवन से मतदाता जागरूकता रैली निकाली गई। रैली को जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान उप जिला निर्वाचन अधिकारी मुनींद्र नाथ उपाध्याय व रैली के प्रभारी के0के0 श्रीवास्तव प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। रैली नदेसर, अंधरा पुल, तेलियाबाग, सिगरा-फातमान होते हुए डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में पहुंचा। रैली में कई स्कूलों के बच्चों व स्वयंसेवी संस्थाओं ने भी हिस्सा लिया। विभिन्न वाहनों पर सवार लोग मतदाताओं को जागरूक रहने व प्रलोभनो से दूर रहने का संदेश दे रहे थे।