July 11, 2024

माघ मेला 2022-23 को सकुशल एवं निर्विघ्न ढंग से संपन्न कराए जाने हेतु मेला प्रशासन द्वारा की जा रही तैयारियों की समीक्षा आज मंडलायुक्त द्वारा की गई-

Spread the love

माघ मेला 2022-23 को सकुशल एवं निर्विघ्न ढंग से संपन्न कराए जाने हेतु मेला प्रशासन द्वारा की जा रही तैयारियों की समीक्षा आज मंडलायुक्त द्वारा की गई। तत्पश्चात उन्होंने मेला क्षेत्र के विभिन्न सेक्टरों का निरीक्षण किया।

लोक निर्माण विभाग द्वारा मोरी एवं त्रिवेणी मार्ग पर कराए जा रहे सड़क निर्माण के कार्यों की प्रगति अपेक्षाकृत धीमी पाए जाने पर अधिशासी अभियंता को फटकार लगाई तथा सभी कार्यों को 20 दिसंबर तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। दलदल वाले स्थानों पर मैन पावर बढ़ाकर कार्य को शीघ्र पूरा कराने को कहा।

जल निगम द्वारा पाइप बिछाने का कार्य उचित गहराई में मानक के अनुरूप किया जा रहा है या नहीं यह सुनिश्चित करने के दृष्टिगत कार्यों का सत्यापन थर्ड पार्टी एजेंसी से कराने के निर्देश दिए। कार्य अधोमानक पाए जाने पर कटौती की जाएगी।

इस वर्ष 500 बेड की डॉरमेट्री की भी व्यवस्था की गई है जो 6 जनवरी से 26 जनवरी तक रहेगी। विभिन्न सरकारी विभागों द्वारा विभिन्न सेक्टरों में विशेष स्टॉल्स भी लगाए जाएंगे जो उस विभाग से संबंधित योजनाओं के बारे में जनमानस में जागरूकता फैलाएंगे।

सभी वेंडिंग जोंन में एकरूपता दिखाई पड़ेगी, हर सेक्टर में एलईडी लगाई जाएगी जिस पर पौराणिक कथाओं के साथ-साथ सरकारी स्कीम से संबंधित जानकारी तथा सभी संबंधित अधिकारियों के फोन नंबर डिस्प्ले किए जाएंगे।

पूरे मेले में 10 फैसिलिटेशन सेंटर बनाए जाएंगे जहां से कोई भी मेला संबंधित जानकारी ले सकेगा

माघ मेला 2022-23 को सकुशल एवं निर्विघ्न ढंग से संपन्न कराए जाने हेतु मेला प्रशासन द्वारा की जा रही तैयारियों की समीक्षा आज मंडलायुक्त श्री विजय विश्वास पंत द्वारा की गई। उन्होंने मेला प्राधिकरण कार्यालय स्थित आई ट्रिपल सी सभागार में संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए आवश्यक जानकारी ली तथा बैठक के पश्चात मेला क्षेत्र के विभिन्न सेक्टरों का निरीक्षण किया।

लोक निर्माण विभाग द्वारा मोरी एवं त्रिवेणी मार्ग पर कराए जा रहे सड़क निर्माण के कार्यों का निरीक्षण करते हुए काम की प्रगति अपेक्षाकृत धीमी पाए जाने पर मंडलायुक्त ने अधिशासी अभियंता को फटकार लगाई तथा माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा दिए गए निर्देशों के क्रम में सभी कार्यों को 20 दिसंबर तक हर हाल में पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने मेला क्षेत्र के जिन भी स्थानों में दलदल की समस्या है वहां पर मैन पावर बढ़ाकर कार्य को शीघ्र पूरा कराने को भी कहा है।

साथ ही जल निगम द्वारा पाइप बिछाने का कार्य उचित गहराई में मानक के अनुरूप किया जा रहा है या नहीं यह सुनिश्चित करने के दृष्टिगत कार्यों का सत्यापन थर्ड पार्टी एजेंसी से कराने के निर्देश दिए। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया के यदि सत्यापन के पश्चात पाइप बिछाने का कार्य अधोमानक पाया जाता है तो जल निगम के बिल से कटौती की जाएगी।

6 जनवरी 2023 को पौष पूर्णिमा के स्नान से प्रारंभ होने वाला माघ मेला इस वर्ष 18 फरवरी को महाशिवरात्रि के स्नान के साथ समाप्त होगा। इस वर्ष अन्य व्यवस्थाओं के साथ-साथ तीर्थयत्रियों के रहने हेतु एक 500 बेड की डॉरमेट्री की भी व्यवस्था मेला प्रशासन द्वारा की गई है जो 6 जनवरी पौष पूर्णिमा से लेकर 26 जनवरी बसंत पंचमी के स्नान तक रहेगी। इस वर्ष भी पूर्व की भांति मेला क्षेत्र को पूर्णताः प्लास्टिक फ्री रखा जाएगा। इसके अतिरिक्त इस वर्ष विभिन्न सरकारी विभागों द्वारा विभिन्न सेक्टरों में विशेष स्टॉल्स भी लगाए जाएंगे जो उस विभाग से संबंधित योजनाओं के बारे में जनमानस में जागरूकता फैलाएंगे।

मुख्य आकर्षण के रूप में इस वर्ष सभी वेंडिंग जोंन में एकरूपता दिखाई पड़ेगी जो की एक थीम पर सजाए जाएंगे। इसी क्रम में हर सेक्टर में एलईडी लगाई जाएगी जिस पर पौराणिक कथाओं के साथ-साथ सरकारी स्कीम से संबंधित जानकारी तथा सभी संबंधित अधिकारियों के फोन नंबर डिस्प्ले किए जाएंगे। साथ ही पूरे मेले में 10 फैसिलिटेशन सेंटर बनाए जाएंगे जहां से कोई भी मेला संबंधित जानकारी ले सकता है। बीते वर्षों से सीख लेते हुए बेहतर मोबाइल सिग्नल हेतु अधिक मात्रा में काऊ टावर्स भी लगाए जाएंगे। जिला सूचनाधिकारी प्रयागराज कार्यालय द्वारा प्राप्त समाचार।