April 12, 2024

प्रयागराज थाना फाफामऊ के प्राची हॉस्पिटल में महिला की ऑपरेशन के दौरान हुई मौत परिजनों में मचा हड़कंप-

Spread the love

*प्रयागराज थाना फाफामऊ के प्राची हॉस्पिटल में महिला की ऑपरेशन के दौरान हुई मौत परिजनों में मचा हड़कंप*

 

परिजनों ने डॉक्टर पर लगाया लापरवाही का आरोप महिला की मौत पर अस्पताल के मरीजों में दहशत का माहौल 30 वर्षीय महिला अरुण देवी अपने देवर और बेटी के साथ प्राची हॉस्पिटल अपनी पीरियड प्रॉब्लम को लेकर गई थी तू प्राची हॉस्पिटल की डॉक्टर रीता पटेल ने उनका ऑपरेशन किया जबकि परिवार वालों से सलाह नहीं लिया वह एक स्त्री रोग विशेषज्ञ है सर्जन नहीं है फिर भी उन्होंने ऑपरेशन किया सर्जन के गैर हाजरी में जिससे कि गलत नली कट गई और वह उसे जोड़ना भी भूल गई उन्होंने टाकी लगा दीये जिससे कि 30 वर्षीय महिला किस शरीर का गंदा ब्लड उनके शरीर में फ़ैल गया और पेट फूलना शुरू हो गया पेट दर्द होने लगा रात भर में शरीर फूल गया ब्लड नाली से गिर जाने की वजह से ब्लड की कमी हो गई , ब्लड जांच हुआ उसमें डेंगू पॉजिटिव आया और प्लेटलेट 60000 था ऑपरेशन से पहले जांच नहीं किया गया डेंगू पॉजिटिव था फिर भी ऑपरेशन कर दिया गया,और रात में ब्लड, प्लेटलेट चढ़ाया गया हालत खराब हो गई ज्यादा तो आईसीयू में शिफ्ट कर दिए सही से इलाज नहीं किए और सुबह महिला की मृत्यु हो गई, महिला के पति सीआरपीएफ में एस आई है छत्तीसगढ़ में पोस्टेड है उनके तीन बच्चे हैं दो बेटी एक बेटा सब नाबालिक है महिला गांव कोरसर थाना थरवई की रहने वाली अरुण देवी उर्फ ‘गुड्डी’ के परिवार वाले प्रशासन से इंसाफ की मांग कर रहे थे क्योंकि डॉक्टरों की लापरवाही से महिला की मृत्यु हुई थी लेकिन उनका एफ आई आर दर्ज नहीं हुआ उन्हें पुलिस प्रशासन द्वारा सांत्वना मिलती रही फिर जब उनको लगा कि अप पुलिस प्रशासन उनकी सहायता नहीं करेगी तब उन्होंने पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाए और प्राची हॉस्पिटल मुर्दाबाद रीता पटेल मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे मौके पर एस पी गंगा पार और फाफामऊ थाने के एस एच ओ आशीष सिंह और सभी पुलिस फोर्स मौजूद रहे परिजनों का कहना था कि अगर प्राची हॉस्पिटल वालों की बस का नहीं था तो उनको रेफर कर देना चाहिए था मगर ऐसा नहीं किया गया प्राची हॉस्पिटल के डॉक्टर अपना बिल बनाने की वजह से मरीज को ट्रांसफर नहीं किया हालत नाजुक होती रही लेकिन उनके द्वारा सही इलाज नहीं किया गया इसी कारण काफी कहासुनी हुई , एसपी गंगापार ने कहा डॉक्टरों ने अपना कार्य किया है और यदि आप डॉक्टरों के खिलाफ f.i.r. लिखा ना हो तो यह सही नहीं है क्योंकि घटना तो हो गई है f.i.r. तभी होगा जब पोस्टमार्टम के लिए भेजा जाएगा जो रिपोर्ट आएगा उस पर ही कुछ कार्रवाई हो सकती है सीएमओ को पत्राचार भेजा गया है इनके पास से जो रिपोर्ट बन के आएगा तू ही होगा f.i.r. नहीं तो नहीं होगा 1 गुण गठित कर जांच करेंगे रिपोर्ट आएगा तो उस पर कर होगा मगर एसपी गंगा पार की बातों से परिजन संतुष्ट नहीं थे इसलिए परिजनों ने शांतिपुरम चौराहे पर चक्का जाम कर इंसाफ की मांग की मगर देखना यह है कि मृतक के परिवार को इंसाफ मिलेगा या नहीं उनके छोटे-छोटे बच्चे हैं उनका क्या होगा इसलिए परिजन परेशान है उनके लिए एक चिंता का विषय है