May 18, 2022

पैसे के लिए बांट रहे मौत: प्रेग्नेंसी किट को कोरोना किट बता बेचा-

Spread the love

पैसे के लिए बांट रहे मौत: प्रेग्नेंसी किट को कोरोना किट बता बेचा: डिस्टिल वॉटर भरकर बेची वैक्सीन…

वाराणसी में कोरोना जैसी महामारी में भी शातिर कमाई का कोई जरिया छोड़ना नहीं चाहते। चाहे इसमें किसी की जान भी क्यों न चली जाए। वाराणसी में UP-STF ने 5 शातिरों को बुधवार को गिरफ्तार किया। ये लोग 40 रुपए की प्रेग्नेंसी किट को कोरोना की टेस्ट किट बता कर मार्केट में 500 में बेच देते थे। इतना ही नहीं, डिस्टिल वॉटर को शीशी में डाल कर फर्जी रैपर लगा कर उसे कोरोना वैक्सीन बता कर प्राइवेट अस्पताल और लैब को बेचते थे।

इसके लिए उन्हें प्रति शीशी 25 रुपए खर्च करना पड़ता था, जबकि नकली वैक्सीन 300 रुपए में बेचते थे। इसके अलावा, नकली रेमडिसिवर इंजेक्शन की शीशी में ग्लूकॉन-डी पॉउडर डालकर फर्जी रैपर लगा देते थे। 100 रुपए में तैयार हुआ नकली इंजेक्शन 3000 रुपए में बेचा जाता था।

यह खुलासा गिरफ्तार पांचों युवकों से लगभग 10 घंटे की पूछताछ के बाद UP-STF ने बुधवार शाम को किया। पांचों युवकों ने कहा कि वह कम समय में करोड़पति बनना चाहते थे। इसी वजह से बड़े मुनाफे के लालच में उन्होंने यह गोरखधंधा शुरू किया था। पांचों अब तक एक करोड़ रुपए से ज्यादा कमा चुके हैं।4 करोड़ रुपए नकली दवाओं के साथ गिरफ्तार सिद्धिगिरी बाग स्थित धनुश्री कांपलेक्स निवासी राकेश थावानी ने बताया कि दशाश्वमेध में उसकी जूते-चप्पल की दुकान है। वह किराए के मकान में रहता है। नोटबंदी के दौरान नोटों को अवैध तरीके से बदलने के आरोप में वह जेल गया था। जमानत पर छूट कर आने के बाद वह फिर दुकान चलाने लगा।

4करोड़ रुपए नकली दवाओं के साथ गिरफ्तार सिद्धिगिरी बाग स्थित धनुश्री कांपलेक्स निवासी राकेश थावानी ने बताया कि दशाश्वमेध में उसकी जूते-चप्पल की दुकान है। वह किराए के मकान में रहता है। नोटबंदी के दौरान नोटों को अवैध तरीके से बदलने के आरोप में वह जेल गया था। जमानत पर छूट कर आने के बाद वह फिर दुकान चलाने लगा।

2020 में कोरोना की पहली लहर के दौरान मास्क वगैरह की कमी हुई, तो उसने यही बेचना-खरीदना शुरू किया। इसी दौरान कबीरचौरा के राहुल जायसवाल ने उसे बताया कि कोविड टेस्टिंग किट की बहुत मांग है। इसमें काफी पैसा भी है।फिर उसने दिल्ली के लक्ष्य जावा ने संपर्क किया और दिल्ली के ही गुरजीत से मुलाकात कराई। इसके बाद तीनों ने मिलकर नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन और कोविड टेस्ट किट तैयार कर बेचने की योजना बनाई।