December 5, 2021

आगामी 21 से 23 जनवरी तक काशी में आयोजित तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस….

Spread the love

संपादक की कलम से ◆◆◆
सिया राम मिश्र ,
पीएम मोदी जी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आयोजित प्रवासी भारतीय दिवस में शिरकत करने वाले प्रवासियों को भारत की कला-संसकृति व काशी के इतिहास से लेकर शो के जरिए रू-ब-रू कराया जाएगा । गंगा में प्रवासियों को नौकायन के दौरान शो दिखाया जाएगा ।
आगामी जनवरी में 21 से 23 जनवरी तक काशी में आयोजित तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस की तैयारियों का जायजा लेने के लिए बुधवार को विदेश मंत्रालय की टीम मनोज महापात्र के नेतृत्व में पहुंची । कमिश्नर दीपक कुमार अग्रवाल , जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह व अन्य अधिकारियों के साथ टीएफसी , ललपुर स्टेडियम का निरीक्षण , ऐढ़े गांव , संपूर्णानंद सिगरा स्टेडियम का निरीक्षण किया । टीम ने टेंट सिटी का काम कराने के निर्देश दिए । तय हुआ कि पहले किसानों से ली गई जमीनों का समतलीकरण कराया जाए। टेंट तक पानी की व्यवस्था हो , टेंट सिटी के चारो ओर बाउंड्रीवाल तैयार की जाए । कमिश्नर दीपक अग्रवाल के साथ हुई बैठक में तय हुआ कि प्रवासी भारतीय दिवस में रजिस्ट्रेशन करा चुके प्रवासियों को ई-मेल के जरिए ‘ काशी आतिथ्य ‘ का निमंत्रण भेजा जाएगा । जो प्रवासी इस निमंत्रण को स्वीकार करेंगे , उन्हें काशीवासियों के उन आवासों पर ठहराया जाएगा जिनकी जांच प्रक्रिया पूरी हो चुकी है । शेष प्रवासी भारतीयों के लिए होटल की व्यवस्था की
गई है ।
प्रवासी भारतीय सम्मेलन दिवस को लेकर पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोग काफी खुश है । इनमें होटल कारोबारियों से लेकर बस मालिक ,कार मालिक , नौकाओं के स्वामी शामिल हैं । पर्यटन उद्योग में काफी सालों से कार्यरत शैलेंद्र सिंह और अभिषेक सिंह ने एमबीडी इन्डिया न्यूज को बताया कि हम लोगों को जो जानकारी है या मिल रही है उससे मानना है कि प्रवासिय सम्मेलन दिवस में बनारस का पर्यटन उद्योग नयी सीमा को छू लेगा । होटल में बुकिंग 80 प्रतिशत हो चुकी है । टूरिस्ट बस और कार एजेंसियों के पास भी एडवांस आ चुके है । गंगा आरती या सुबह नौका विहार के सामने नौकाएं कम न हो जाए इसलिए मीरजापुर और इलाहाबाद से भी करीब 50 सुसज्जित नौकाएं आएंगी । बनारस , वाराणसी , काशी प्रवासी सम्मेलन दिवस के मौके पर नौका दौड़ , कुश्ती और जोड़ी , गदा प्रतियोगिता एवं पतंगबाजी कब और कैसे होगी ।अभी तक इस पर फैसला नहीं हो सका है । जिला ओलंपिक संघ के कार्यकारी सचिव शम्स तबरेज शंपू का कहना है कि हम लोग चाहते है जो भी प्रवासी भारत बनारस आ रहे हैं , वह कम से कम बनारस के पारंपरिक खेलों का भी आनंद उठाएं ।