24 अगस्त को दल-बदल पर त्वरित फैसला लेकर भाजपा अटल जी को दे सच्ची श्रद्धांजलि: योगेन्द्र प्रताप सिंह.

Spread the love

अटल जी की जीवनी पाठ्यक्रम में शामिल करने का स्वागत, उनके आदर्शो को आचरण में भी उतारे भाजपा..
झारखंड विकास मोर्चा के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा है कि दिवंगत महान नेता अटल जी की जीवनी को झारखंड के पाठ्यक्रम में शामिल करने के निर्णय का हम सहृदय स्वागत करते हैं। अटल जी का बाबूलाल जी व झाविमो भी उतना ही सम्मान करती है जितनी की भाजपा। अब हमारी पार्टी व राज्य की जनता यह उम्मीद करती है कि रघुवर सरकार अटल जी के आदर्शो को अपने आचरण में भी उतारे। 24 अगस्त को दल-बदल की सुनवाई होनी है। इस दिन एक त्वरित व ऐतिहासिक फैसला लेकर भाजपा अटल जी को झारखंड में सच्ची श्रद्धांजलि दे सकती है। झाविमो के छह विधायकों की खरीद-फरोख्त से भाजपा के रघुवर सरकार के दामन पर जो अमिट कलंक व अटल जी के आदर्शो को झारखंड में जो ठेस लगी है, उसका प्रायश्चित करने का भाजपा के पास एक सुनहरा अवसर है। गलती किससे नहीं होती है परंतु उस गलती का प्रायश्चित करना बड़प्पन होता है। जिस अटल जी ने विश्वासमत के दौरान मात्र एक वोट कम होने के बाद भी जुगाड़ तंत्र व खरीद-फरोख्त को बढ़ावा देने की बजाय अपना इस्तीफा देना उचित समझा, आडवाणी जी ने महज आरोप लगने के बाद सांसदी से इस्तीफा तक दे दिया, उसी भाजपा का झारखंड में यह दूसरा चेहरा बताता है कि इन महान नेताओं के आदर्शो से भाजपा पूरी तरह भटक चुकी है। झारखंड भाजपा अगर वास्तव में अटल जी को सम्मान देती है, रघवुर जी अटल जी के समाधिस्थल से अटल जी के आदर्शो पर चलने की प्रण लेकर लौटे ही हैं तो अटल जी की प्रतिमा को साक्षी मानकर भाजपा आत्मचिंतन करे कि किसी दूसरे दल के बैनर तले जीते छह विधायकों को खरीदना क्या वाजपेयी जी वाली भाजपा का सिद्धांत रहा है ? सिद्धांत व आदर्श सीखनी है तो झारखंड में भाजपा को बाबूलाल जी से भी सीखनी चाहिए जिन्होंने 2006 में जब भाजपा छोड़ी तब पूरे झारखंड में भाजपा के एकलौते सांसद होने के बावजूद उन्होंने पहले भाजपा से त्यागपत्र दिया फिर जाकर निर्दलीय चुनाव लड़ा। झाविमो उम्मीद करती है कि भाजपा इस मुद्दे पर अविलंब उचित निर्णय लेगी, लेटलतीफी व देर से मिला न्याय अन्याय सरीखा होता है। वरना केवल बयानों व दिखावा के तौर पर ही किसी को आदर्श मानना है तो अलग बात है।

Leave a Reply