January 22, 2021

21 साल की उम्र में लेफ्टिनेंट बन रचा इतिहास

Spread the love

पानीपत: दादा और पिता ने देखा सपना, बेटे ने 21 साल की उम्र में लेफ्टिनेंट बन रचा इतिहास

पानीपत. हरियाणा के पानीपत जिले के गांव मनाना के महज 21 साल के जवान ने न सिर्फ इतिहास रच दिया बल्कि हरियाणा (Haryana) का नाम एक बार फिर चमकाने का काम किया. मनाना गांव के 21 वर्षीय विशाल राठी (Vishal Rathi) ने मराठा रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट पद हासिल कर गांव का नाम रोशन कर दिया और अपने दादा और पिता के सपने को भी पूरा कर दिखाया. आज के समय में अपने दादा और पिता के सपनों को पूरा कर दिखाना किसी आदर्श से कम नहीं है.

विशाल राठी का गांव पहुंचने पर ग्रामीणों और परिजनों ने फुल मालाएं पहनाकर भव्य स्वागत किया गया. उन्होंने इस मुकाम को हासिल करने का श्रेय अपने पिता और दादा को दिया. उन्होंने कहा कि मुझे सैनिक स्कूल में भेजते हुए मेरे दादा ने कहा था कि अब वापस नहीं आना है. देश की सेवा करनी है. विशाल ने कहा कि आज मैं गर्व से कह सकता हूं कि मैं अपने पिता और दादा की उम्मीदों पर खरा उतरा.

गांव में खुशी का माहौल

वहीं इस मौके पर विशाल राठी की बहन ने अपनी भाई की कामयाबी पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें आज अपने भाई पर गर्व है वो हमेशा मेरे आदर्श रहे हैं. छोटी उम्र में बड़ा मुकाम हासिल करने पर परिवार और ग्रामीणों में खुशी का माहौल है.

पिता भी सेना में दे चुके हैं अपनी सेवाएं

विशाल राठी का कहना है की उन्हें मराठा रेजिमेंट में सेवा करने का मौका मिला है, जिसमें वो अपने अच्छे फैसलों से देश की सेवा करेंगे. बता दें कि विशाल राठी के पिता भी आर्मी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं. विशाल राठी के पिता ने कहा उन्हें अपने बेटे पर गर्व है.