May 24, 2022

फ़तेहपुर में बीजेपी प्रत्याशी को अतिक्रमण अभियान पड़ सकता है भारी- अमित कुमार प्रजापति

Spread the love

*फ़तेहपुर में बीजेपी प्रत्याशी को अतिक्रमण अभियान पड़ सकता है भारी*

 

 

 

*फ़तेहपुर-:*

 

*2022 के विधानसभ चुनाव में उत्तर प्रदेश बीजेपी के लिए मुसीबत का सबब बन गया है। यहां जगह-जगह उसके प्रत्याशियों को लोगों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। मतदाताओं के भीतर पार्टी के प्रति एक असंतोष दिखाई दे रहा है, जिसकी अभिव्यक्ति आम लोगों में फूटे गुस्से के तौर पर सामने आ रही है। सोशल मीडिया भाजपा प्रत्याशियों के विरोध के वीडियो से भर गया है।*

 

*फ़तेहपुर के सदर विधानसभा से दो बार रहे बीजेपी के विधायक विक्रम सिंह की इस बार राह आसान नही दिख रही है। लगभग दो वर्ष पूर्व शहर में प्रशासन ने अतिक्रमण अभियान चलाकर करोड़ों के बेशकीमती इमारतों को ढहा दिया था। जिसकी कसक शहरवासियों में आज भी बनी हुई है। लोगों का कहना है कि पूरा शहर इस दौरान खंडहर में तब्दील हो गया तब सदर विधायक की नज़र नही पड़ी। जब शहर के एक टुकड़ी चौक बाजार में अतिक्रमण अभियान पहुंचा तो वहाँ के लोगों ने प्रशासन के ऊपर हमला बोलते हुए जेसीबी मशीन को क्षतिग्रस्त कर दिया था। इसपर प्रशासन की ओर से दर्ज़नों उपद्रवियों पर मुकदमा दर्ज हुआ था। जिसके बचाव के पक्ष में सदर विधायक ने अपने ही सरकार के खिलाफ थाने में धरना दिया था। जिससे प्रशासन बैक फुट पर आ गया और अतिक्रमण अभियान की इतिश्री हो गई। क्षेत्रीय मतदाताओं की मानें तो अतिक्रमण अभियान उनके चुनाव की राह में एक अहम रोड़ा बन सकता है।*

 

*बतादें कि, भाजपा से फ़तेहपुर के खागा (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी की बात करें तो उनका भी जमकर विरोध हो रहा है। पिछले दिनों भाजपा प्रत्याशी कृष्णा पासवान को चुनाव प्रचार के दौरान लोगों ने खदेड़ लिया था। कुछ दिनों पहले वह क्षेत्र के लोधौरा गांव में वोट मांगने गई थी। लेकिन क्षेत्र में जनसंपर्क के दौरान लोगों ने उनका विरोध शुरू कर दिया। जिसका नतीजा यह हुआ की उन्हें उल्टे पांव भागना पड़ा था।*