May 18, 2022

हनी ट्रैप में फंसने से बचे राजस्थान के राजस्व मंत्री रामलाल जाट ने कहा यह किसान राजनीति को खत्म करने की साजिश-

Spread the love

हनी ट्रैप में फंसने से बचे राजस्थान के राजस्व मंत्री रामलाल जाट ने कहा यह किसान राजनीति को खत्म करने की साजिश है।

 

आखिर कौन लोग हैं जो राजस्व मंत्री को फंसाना चाहते हैं?

============

राजस्थान के राजस्व मंत्री रामलाल जाट ने कहा है कि मुझे हनी ट्रैप में फंसाकर कुछ लोग किसान राजनीति को समाप्त करना चाहते हैं। जाट ने यह बात जोधपुर पुलिस के खुलासे के बाद 2 फरवरी को कही। जोधपुर पुलिस ने भीलवाड़ा के अक्षत उर्फ सागर और उदयपुर की दीपाली को गिरफ्तार करने के बाद कहा कि ये दोनों एक मॉडल को ब्लैकमेल कर राजस्व मंत्री रामलाल जाट को हनीट्रैप में फंसाना चाहते थे। 30 जनवरी को मॉडल ने जोधपुर की एक होटल की 8वीं मंजिल से छलांग लगा दी, लेकिन मॉडल बच गई। मॉडल के बयानों के आधार पर जोधपुर पुलिस ने खुलासा किया। अब जाट का कहना है कि कुछ लोग मेरी राजनीतिक सफलता से ईष्र्या रखते हैं। ऐसे लोगों में राजनीतिक दलों के लोग भी शामिल हो सकते हैं। जाट ने कहा कि मेरे परिवार की कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं है। भीलवाड़ा की जनता ने मुझे जिताया और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुझे मंत्री बनाया। मैं जब भी भीलवाड़ा में रहता हंू तो सर्किट हाउस में जनसुनवाई करता हंू। मेरी जनसुनवाई खुले में होती है। मुझे नहीं पता कि जनसुनवाई में अक्षत और दीपाली कब आई। मुझे तो पुलिस के खुलासे के बाद पता चला कि मुझे हनी टे्रप में फंसाने की साजिश हो रही है। मैं तो सीधा साधा किसान हंू। मेरा ऐसे गंदे कामों से कोई सरोकार नहीं है।

 

आखिर कौन लोग फंसा रहे हैं जाट को:

राजस्व मंत्री रामलाल जाट का बयान अपनी जगह है, लेकिन सवाल उठता है कि आखिर कौन लोग है जो जाट को हनीट्रैप में फंसाना चाहते हैं? जाट ने अब इस मामले को राजनीति से भी जोड़ दिया है, इसलिए जोधपुर और भीलवाड़ा की पुलिस अपनी जांच को आगे बढ़ाना चाहिए। गिरफ्तार अक्षत और दीपाली के राजनीतिक संबंधों का भी पता लगाना चाहिए। जिस मॉडल ने जोधपुर की होटल से छलांग लगाई उसकी पृष्ठभूमि की भी जांच होनी चाहिए। सवाल यह भी है कि मॉडल को उसके अश्लील वीडियो से ब्लैकमेल रामलाल जाट के पास ही भेजने की योजना क्यों बनाई गई? जाट को हनी ट्रैप में फंसाने का मकसद क्या था? यदि कुछ लोग एक मंत्री को हनीट्रैप में फंसा रहे हैं तो यह बहुत ही गंभीर बात है। जोधपुर और भीलवाड़ा की पुलिस को इस प्रकरण को गंभीरता से लेने की जरूरत है। जोधपुर पुलिस ने राजस्व मंत्री के नाम का उल्लेख कर खुलासा तो बहुत बड़ा कर दिया, लेकिन जांच को अंजाम तक पहुंचाना चाहिए। यदि रामलाल जाट राजनीतिक साजिश की बात कर रहे हैं तो पुलिस की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। यह तो अच्छा हुआ कि मॉडल ने जोधपुर की होटल से छलांग लगा दी, लेकिन यदि अक्षत और दीपाली की साजिश सफल हो जाती तो राजस्थान सरकार का क्या होता? जोधपुर पुलिस ने मॉडल के आत्महत्या के प्रयास को राजस्व मंत्री जाट को फंसाने की साजिश से जोड़ तो दिया है, लेकिन इससे यह मामला और उलझ गया है। अब पुलिस को उन राजनीतिक साजिशकर्ताओं को भी पकड़ना चाहिए, जिनकी ओर रामलाल जाट इशारा कर रहे हैं।