January 19, 2022

सर्द जाड़े में यूपी में गरमाई सियासत…

Spread the love

यू पी वाराणसी-अनुप्रिया पटेल और राजभर ने जताई राजनीतिक दोस्तों से नाराजगी सपा-बसपा महागठबंधन की तैयारी में जुटे…

जैसे जैसे यूपी में सर्दी बढ़ रही है। वैसे वैसे सियासी पारा गर्म होता जा रहा है। यूपी में भाजपा के सहयोगी दल अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के की नाराजगी को देखते हुए सरकार ने एक ऐसी चाल चली जिससे ओम प्रकाश राजभर को पटखनी दी जा सकती है। प्रधानमंत्री ने शनिवार को सुहेलदेव राजभर के नाम पर एक डाक टिकट जारी कर दिया। वहीं सपा बसपा ने गठबंधन की तैयारी शुरू कर दी है और कांग्रेस सड़क से सत्ता तक पहुंचने का रास्ता ढूंढ रही है।

हुआ यूं कि लोकसभा चुनाव की तैयारी में सभी दल लग गए हैं। उनके अपने अपने तेवर दिखने लगे हैं। यही कारण है कि जबपूर्वी यूपी में जहां पीएम नरेंद्र मोदी शनिवार को गाजीपुर से हुंकार भरने जा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर यूपी में एनडीए के सहयोगी दलों की बगावत ने एक बार फिर बीजेपी की टेंशन बढ़ा दी है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में शनिवार को होने वाली पीएम की दो बड़ी रैलियों से पहले पार्टी के सहयोगी दलों ने इसके बहिष्कार का ऐलान किया है। हालांकि सत्तापक्ष अब इन रूठे सहयोगियों को मनाने में जुट गया है।

पूर्वी उत्तर प्रदेश की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गाजीपुर रैली में शामिल ना होने का ऐलान किया है। उनसे अलग केंद्रीय मंत्री और अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल ने भी प्रदेश सरकार से अपनी नाराजगी जताते हुए पीएमके कार्यक्रम का बहिष्कार करने की घोषणा की है। याद रहे कि अनुप्रिया की पार्टी अपना दल (एस) के अध्यक्ष आशीष पटेल ने बयान दिया था कि प्रदेश सरकार लगातार अपना दल के नेताओं की उपेक्षा कर रही है, ऐसे में केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया अब किसी भी सरकारी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगी। अब इस बात संकेत साफ तौर पर दिखने लगे हैं।नाराजगी में रद्द किया वाराणसी दौरासुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर ने पीएम मोदी की रैली को बीजेपी की हताशा बताते हुए कहा था कि पार्टी ने उनके विरोध को देखते हुए गाजीपुर की कमान खुद पीएम को सौंप दी है। इन दोनों नेताओं के विरोध को देखते हुए भाजपा नेता सक्रियहो गए हैं। इतना ही नहीं शनिवार की सुबह अनुप्रिया पटेल वाराणसी जाने के लिए दिल्ली के अपने घर से एयरपोर्ट तक पहुंचीं लेकिन उन्होंने दौरा बीच में ही रद्द करते हुए कार्यक्रम का बहिष्कार करने फैसला किया।राजभर जीभर दिखे नाराजराजभर ने भी गाजीपुर रैली का न्यौता आने की बात पर कहा कि वह शनिवार को पीएम मोदी की सभा में हिस्सा नहीं लेंगे। राजभर यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं और लगातार बीजेपी की आलोचना करते रहे।

www.mvdindianews.in