July 16, 2024

शुआट्स के कुलाधिपति, कुलपति समेत 11 के खिलाफ चार्जशीट फाइल-

Spread the love

शुआट्स के कुलाधिपति, कुलपति समेत 11 के खिलाफ चार्जशीट फाइल________

 

फरार अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए भी कवायद तेज-

 

प्रयागराज: फर्जी नियुक्ति के मुकदमे में पुलिस ने सैम हिग्गिन बाटम कृषि, प्रौद्योगिकी और विज्ञान विश्वविद्यालय (शुआट्स) के कुलाधिपति जेए आलिवर, कुलपति आरबी लाल सहित 11 अभियुक्तों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में फाइल कर दिया है|

 

पुलिस की विवेचना में अभियुक्तों पर लगाए गए आरोप सही पाए गए हैं। इसके साथ ही मुकदमे में वांछित चल रहे आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए कवायद तेज कर दी गई है। बताया गया है कि पुलिस को जांच में साफ हो चुका है कि शुआट्स में विभिन्न पदों पर भर्ती मानक के विपरीत हुई है।

शुआट्स की सोसाइटी के जरिए जिनकी भर्ती की गई थी, उन्हें भी सरकारी मानदेय दिया जाता था। आरबी लाल और उनके परिवार से जुड़े तमाम सदस्यों भी फर्जी तरीके से नियुक्ति करते हुए लाखों रुपये वेतन दिया गया। कई जगह यूजीसी के नियमों की अनदेखी की गई और नियम के विपरीत जाकर भर्ती की गई|

 

पुलिस का कहना है कि 69 पदों में करीब 26 पदों के लिए अखबार में बिना विज्ञापन दिए ही भर्ती की गई और एक पद पर एक अभ्यर्थी आने पर भी नियुक्ति कर दी गई थी। फिलहाल अब अदालत में आरोप पत्र दाखिल होने से शुआटस प्रबंधन पर और शिकंजा कस जाएगा। मामले में दो आरोपितों की गिरफ्तारी हुई है, जबकि अन्य वांछित हैं|

 

फरवरी 2023 में स्पेशल टास्क फोर्स एसटीएफ के डिप्टी एसपी नवेंदु कुमार की शिकायत पर नैनी थाने में शुआट्स के कुलाधिपति जेए आलिवर, कुलपति आरबी लाल, तत्कालीन रजिस्ट्रार अजय कुमार लारेंस, प्रतिकुलपति एसबी लाल, एचआरएएम निदेशक विनोद बी लाल, रजिस्ट्रार राबिन एल प्रसाद, वित्त नियंत्रक स्टीफेन दास, डीन डा. मो. इम्तियाज, प्रतिकुलपति डा. सर्वजीत हर्बट व रंजन ए जान, कार्यालय अधीक्षक अशोक सिंह सहित कई अन्य प्रशासनिक अधिकारियों, उनके सहयोगियों के खिलाफ मुकदमा लिखाया गया था|

 

आरोप है कि संस्थान में वर्ष 1984 से 2017 के बीच 69 पदों (प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर) की नियुक्ति फर्जी तरीके से की गई। बिना आवेदन के चयन किया गया और गर्वमेंट पे रोल पर सीधी भर्ती के लिए विज्ञापन नहीं निकाला गया|

 

फर्जी नियुक्ति के मुकदमे में शुआट्स के कुलपति समेत अन्य अभियुक्तों के विरुद्ध अदालत में आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया है। विवेचना के दौरान लगाए गए आरोप सही पाए गए हैं। वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी के प्रयास भी तेज कर दिए गए हैं|

 

-अजीत सिंह चौहान, एसीपी करछना