May 24, 2022

शंकरगढ़ में फैलता जा रहा अवैध प्लाटिंग का जाल,जिम्मेदार अमला बना मूकदर्शक*

Spread the love

*शंकरगढ़ में फैलता जा रहा अवैध प्लाटिंग का जाल,जिम्मेदार अमला बना मूकदर्शक*

शंकरगढ़(प्रयगाराज) शंकरगढ़ नगर पंचायत क्षेत्र बेहद छोटा है यही कारण है कि शंकरगढ़ में अपने घर का सपना देखने वालों को मोटी रकम देकर प्लाट लेने पढ़ रहे हैं , शंकरगढ़ में जमीनों के रेट आसमान छू रहे हैं । जीवन भर जमा पूंजी देकर प्लाट खरीदने वाले उस समय अपने आप को ठगा महसूस करते हैं जब उन्हें पता चलता है कि जो जमीन उन्होंने खरीदी है, वह अवैध कॉलोनी के तहत आती है । शंकरगढ़ में इन दिनों धड़ल्ले से प्रशासन की मूक सहमति से खुलेआम अवैध प्लाटिंग का खेल चल रहा है । रसूखदार लोगों के संरक्षण में अन्य इलाकों से शंकरगढ़ आकर कई लोग अवैध प्लाटिंग के कारोबार में लगे हैं । इनके द्वारा स्थानीय लोगों से खेतों को खरीदा जाता है और बिना किसी कॉलोनाईजर व रेरा लाइसेंस के प्लाटिंग कर दी जाती है । ऐसी ही एक अवैध कॉलोनी का विकास इन दिनों शंकरगढ़ के इलाहाबाद बांदा हाईवे के प्रयाग ढाबा के पास हो रहा है । स्थानीय लोगों ने बताया कि दो एकड़ क्षेत्र में बन रही इस कॉलोनी में सुविधा के नाम पर कच्ची सड़क बनाई गई है ताकि प्लाटों का सही से वर्गीकरण हो सके । इसके अलावा ना तो यहां पक्की सड़क बनी ना पानी और नहीं नाली की कोई व्यवस्था है । स्थानीय निवासी ननकू ने बताया कि उन्होंने अपने भाइयों के साथ मिलकर उक्त 2 एकड़ जमीन को दिवाकर कटरा बेनौरी वालो को बेची थी । दिवाकर अब कुछ लोगों के साथ मिलकर यहां प्लाटिंग करा रहे हैं । उन्होंने कुछ लोगों को यहां प्लाट भी बेचे हैं । गौरतलब है कि दिवाकर द्वारा शंकरगढ़ के कई हिस्सों में इसी तरह खेतों को खरीद कर उसे अपने कई साथियों के साथ मिलकर बेचा जा रहा है । इस कारोबार में कुछ स्थानीय लोगों का सहयोग भी होता है । जिसके बल पर प्रशासन भी इनका कुछ नहीं कर पाता और धड़ल्ले से प्लाटों की बिक्री की जा रही है । *फंस रहे आम लोग* शंकरगढ़ में बन रही अवैध कॉलोनी में प्लाट लेकर आम लोग फंस रहे हैं । शंकरगढ़ में कई कॉलोनी ऐसी है ,जहां आज तक ना तो सड़क बनी और ना ही नाली । पानी के लिए लोगों को लाखों रुपए खर्च कर खुद ही बोरवेल बनाने पड़े । इतना ही नहीं बिना कॉलोनाइजर लाइसेंस के बेचे जा रहे हैं । इन प्लाटों में बैंक से लोन भी नहीं मिलता ऐसे में अपनी जमा पूंजी से प्लाट खरीद कर लोन से घर बनाने का सपना देख रहे लोगों को बाद में पछताना पड़ा है । लोगों के साथ ठगी का या कारोबार बदस्तूर जारी है । लेकिन जिला प्रशासन द्वारा इसे पूरी तरह से अनदेखा किया जा रहा है । जाहिर है इसके पीछे रसूखदार भू माफियाओं का दबाव काम करता है , अन्यथा प्रशासन तो आम लोगों को 1 इंच जमीन पर भी अतिक्रमण तक नहीं करने देता ।