November 30, 2021

विद्यालय प्रधानाचार्य के साथ प्रबन्धक,सह प्रबन्धक ने की मारपीट

Spread the love

एक नजर इधर भी ‘
वाराणसी : 05 दिसम्ब 2018 दिन बुधवार को विद्यालय परिसर में आहूत की गई प्रबन्ध समिति की बैठक के दौरान विद्यालय के प्रबंधक डाo राजेश अग्रवाल एवं सहायक प्रबंधक अमित अग्रवाल ने विद्यालय के प्रधानाचार्य सन्तलाल के साथ मारपीट और गाली-गलौज की । विद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियोंने बीच-बचाव कर प्रधानाचार्य सन्तलाल की जान बचायी । मौके पर अजीत प्रकाश मिश्र , विनोद कुमार मिश्र , धर्मेन्द्र कुमार एवं इन्द्र नारायण मालवीय
मौजूद थे । घटना की जनकारी होने पर जिला मंत्री गिरिजेश तिवारी एवं जिला उपाध्यक्ष मनोज कुमार भी मौके पर उपस्थित हुये ।
सूत्रों से ज्ञात हुआ कि 5 दिसम्ब 2018 दिन बुधवार को प्रातः 10 बजे प्रबन्ध समिति की बैठक विद्यालय परिसर में प्रारंभ हुयी जिसमें विद्यालय के कर्मचारियों के चयन वेतनमान और पदोन्नति हेतु विचार किया जाना था । विद्यालय के प्रबन्धक डाo राजेश अग्रवाल व सहायक प्रबन्धक अमित अग्रवाल से प्रधानाचार्य ने कमेटी में चयन वेतनमान के संदर्भ में की गयी कार्यवाही के बारे में अपरान्ह 1 बजे जब पूछा तो उक्त दोनों लोग आग-बबूला हो गये और गाली-गलौज करने लगे इसका विरोध करने पर बात मार-पीट पर पहुंच गई । बात यहीं समाप्त नहीं हुआ । प्रधानाचार्य संतलाल को संस्पेंड कर तुरन्त प्रबंधक ने विद्यालय के प्रवक्ता राम कुमर गुप्ता को बुलाकर प्रधानाचार्य पद दे दिया । जानकर आश्चर्य होगा कि एक वर्ष में तीसरी बार प्रबंधक ने संतलाल को संस्पेंड किया है । जबकि जिला विद्यालय निरीक्षक वाराणसी संतलाल को ही प्रधानाचार्य मानता है जिसके खिलाफ प्रबन्धक न्यायालय में अपना पक्ष प्रस्तुत किया है जो विचाराधीन है ।
1896 में स्थापित 122 वर्ष पुराना अग्रसेन महाजनी महाविद्यालय चौखम्भा कि स्थापना नगर के धनाढ्य समाज सेवी संस्था श्री अग्रवाल समाज द्वारा संचालित है ।
कभी समय था इस विद्यालय में नगर के पूजीपतियों के बच्चों के साथ गरीब परिवार के भी बच्चे एक साथ विद्या अध्यन किया करते थे । बच्चों की संख्या दो हजार के उपर हुआ करती थी । इस प्रतिष्ठित विद्यालय में दाखिला कराने के लिए नगर के प्रतिष्ठित लोगों से सिफारिश करानी पड़ती थी । आज इस विद्यालय में दो सौ के उपर और तीन सौ के अन्दर बच्चें विद्या अध्यन कर रहे है ।
कभी समय था , विद्यालय , धर्मशालाओं एवं गौ शालाओं की स्थापना नगर सेठ अपने सगे संबधियों एवं मित्रों के साथ मिलकर स्थापित कराते थे । आपस में इकट्ठा अंश दान से यह समाज सेवी संस्थाओं का संचालन सुचारू रूप से चलता था । अब इन संस्थानों को कमाई का माध्यम मान कर समाज सेवी संस्थाओं के सदस्य चुनाव में जीत हासिल करने के लिये अनेक पैतरे एवं प्रयोग करते है । प्रत्यक्ष उदाहरण है श्री काशी अग्रवाल समाज द्वारा संचालित अग्रसेन महाजनी महाविद्यालय इन्टर कालेज । इस कालेज की बिजली एक माह से कटी है । प्रबन्धक को बच्चों के असुविधा का ज्ञात नहीं है की बिजली विद्यालय में न होने से बच्चों के सौचालय की क्या स्थिति है । विद्यालय में एक पुराना जनरेटर है वह भी खराब हो चुका है । सूत्रों की माने तो विद्यालय पर दो लाख के आस-पास बिजली भुगतान का बकाया होने से बिजली विभाग के कर्मचारियों ने कनेक्शन काट दिया है ।
हमारे संवाददाता ने जब विद्यालय प्रबन्धक से दूरभाष पर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया तो प्रबंधक डाoराजेश अग्रवाल ने यह कह कर फोन रख दिया की डाo राजेश अग्रवाल जी नही है ।
*** प्रबन्धक के थप्पड़ व घूसे से प्रधानाचार्य आज भी
भयभीत ।
*** दशाश्वमेध क्षेत्राधिकारी ने विद्यालय में आकर घटना स्थल का मुआयना किया और प्रधानाचार्य व कर्मचारियों को अस्वस्थ किया कि आरापियों को नहीं छोड़ा जाएगा । चाहे उनकी पहुंच कितने उपर तक क्यो न हो ।

¡¡ सियाराम मिश ¡¡