October 21, 2021

विकास नही विनाश की ओर काशीपुर

Spread the love

वाराणसी : विकासखंड पिन्डरा के अंतर्गत एक गांव काशीपुर है जो विकासखंड मुख्यालय से 5 किलोमीटर की दूरी पर मंगारी सिंधौरा मार्ग पर है वहां विकास की यह स्थिति है कि विकास नजर नहीं आता है गाँ GCव विनाश की ओर जरूर जा रहा है ऐसा जब आप गांव में घुसेगे तो अपने आप नजर आएगी चारो तरफ गंदगी नाबदान का पानी सड़कों पर खड़ंजा उखड़े पड़े हैं इतना ही नहीं स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांव के शौचालय की स्थिति बद से बदतर है शौचालय पंचायत सेक्रेट्री के कागजों पर तो बना है लेकिन मौके से नदारद है इस संदर्भ में गांव के रत्नेश पांडे व आल इंडिया हिन्दू पसँंनल ला बोर्ड के राष्ट्रीय सचिव शोभनाथ वमाँ व दर्जनों ग्रामीणों के हस्ताक्षर युक्त प्रार्थना पत्र के साथ गांव के दुर्दशा गांव में व्याप्त भ्रष्टाचार के तहत शौचालयों की धनराशि में घोटाला की शिकायत मंडला आयुक्त वाराणसी मुख्य विकास अधिकारी वाराणसी मुख्यमंत्री सचिव एके बनर्जी आरजीआरएस पोर्टल के द्वारा प्रधानमंत्री कायाँलय मे गांव मे बने शौचालय निर्माण खड़ंजा निर्माण आवास निर्माण राशन कार्ड में पात्रों का चयन व सभी प्रकार के विकास कार्यों में व्यापक रूप से ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सेक्रेट्री द्वारा गलत तरीके सरकारी धन का दुरुपयोग किया गया हैंडपंप रिबोर के नाम पर धनराशि का भारी घोटाला किया गया है संबंधित अधिकारियों को शिकायती प्रार्थना पत्र देने के बाद इसकी जांच एक सफाई कर्मी से करा दी गई इसमें सफाई कर्मी ने भी मामले की लीपापोती कर जाचँ समाप्त कर दी गई इस संदर्भ में ऑल इंडिया हिंदू पर्सनल लॉ बोर्ड के राष्ट्रीय सचिव सोमनाथ वर्मा ने पुनः उक्त मामले की जांच हेतु उपरोक्त अधिकारियों के यहां दर्जनों ग्रामीणों के हस्ताक्षर युक्तलिखित प्राथँना पत्र के साथ सम्बन्धित अधिकारियों के यहाँ गुहार लगा कर गांव के प्रधान पति पंचायत सेक्रेटरी के उपर यह आरोप लगाया है कि फजीँ तरह से शौचालय निर्माण होने का ओ,डी,एफ,करा लिया गया वही गांव के रत्नेश पांडे ने बताया कि मेरे छोटे भाई की पत्नी सुनीता पांडे,गांव के हौसिला पटेल , विजय पटेल,मु,रफीक, बाबू मुस्लिम, आसिया बेगम, ने बताया कि हम लोगों का शौचालय ब्लॉक के कागज पर बना मौके पर नही है नेट से सूची निकलवा कर हम लोग देखे हैं गांव की दूसरी मुस्लिम महिला आसिया पत्नी इकबाल ने बताया कि हमने प्रधान पति के कहने पर कजँ लेकर शौचालय बनवाया है लेकिन प्रधान द्वारा आज तक पैसा नहीं दिया मागने पर कहता है कि भूल जावो नहीं मिलेगा पैसा इसी तरह गांव की वन्दना देवी ने बताया कि मेरे साथ भी ऐसा हुआ है वही गांव की अमरावती राजकुमारी प्रभावती चंद्रावती मालती सहित लगभग 10 महिलाओं ने बताया कि हम लोग मनरेगा के मजदूर है और लोगों की मनरेगा की मजदूरी दबंग प्रधान नहीं दे रहा है दूसरी तरफ गांव के लालमणि देवी सीता देवी बहादुर विद्या देवी उषा सहित अन्य महिलाओं ने भी शौचालय बनवाने की गुहार शासन प्रशासन से लगा रही हैं दूसरी तरफ गांव में बने प्रधानमंत्री आवास योजना की तरफ आप के समाचार पत्र के माध्यम से हम आपको बताना चाहेंगे कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गांव की मुस्लिम महिला खैरुन्निसा ने बताया कि आवास के लिए हमसे ₹20000 घूस लिया गया और आवास आपके सामने है यही दुर्दशा सफीकुल पत्नी बल्लू गुलाम पुत्र मुनीब का भी प्रधानमंत्री आवास आधा अधूरा बना पड़ा है सबसे मजे की बात यह है कि गांवव को कुल 216 शौचालयों का लक्ष्य दिया गया था जिसमें मौके पर 164 शौचालय का निर्माण होना बताया जा रहा है जबकि 169 शौचालयों का धन अवमुक्त किया गया है इस तरह की रिकॉर्ड खुद व खुद अपने आप मे सन्देश पैदा कर रही हैं इस बाबत जब खन्डविकास अधिकारी पिन्डरा से पूछने पर बताया कि हमें कुछ जानकारी नहीं है