October 22, 2021

वाराणसी संभागीय परिवहन कार्यालय में व्याप्त दुर व्यवस्थाओं में रिकॉर्ड रूम की दुर्ग व्यवस्था यह है ।

Spread the love

नवीनीकरण के पीछे खिड़की से लेनदेनरिकॉर्ड रूम

वाशरूम

वाशरूम महिला

नियम की धज्जियां उड़ाते RTO कर्मचारी

कृष्ण मोहन उर्फ बग्गा

****************

वाराणसी संभागीय परिवहन कार्यालय में व्याप्त दुर व्यवस्थाओं में रिकॉर्ड रूम की दुर्ग व्यवस्था यह है कि रिकॉर्ड रूम में ताला बंद और सारे फाइल दरवाजे के बाहर सीढ़ियों पर इधर उधर बिखरे पड़े हैं आप फोटो में स्पष्ट रूप से देख सकते हैं यही नहीं नियम का पाठ पढ़ाने वाले संभागीय परिवहन कार्यालय के कर्मचारियों स्थिति है कि अपना काम कराने के लिए आउटसाइडर को अपने साथ रखे हैं एक-एक बाबू के पास दो से तीन आउटसाइडर हैं आउटसाइडर ओं को सूत्रों के अनुसार 3 से ₹5000 महीना देते हैं इतना ही नहीं नियम का पाठ पढ़ाने वाले पंजीयन विभाग के एक बाबू की गाड़ी का नंबर भी नियम का पाठ पढ़ा रहा है गाड़ी पर स्पष्ट रुप से लिखा हुआ है कि यूपी 32 जीडी 20 लिखा हुआ है जहां चार नंबर मैं गाड़ी का नंबर लिखा होना चाहिए वहां सिर्फ 2 नंबर में ही गाड़ी का नंबर है क्या यह नियम विरुद्ध नहीं है अगर नियम विरुद्ध है तो अब तक उक्त गाड़ी के खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई इस तरह की गाड़ियों जिसका नंबर पापा बॉस दादा राम यादव लिखी हुई गाड़ियों का नंबर शहर के अंदर धड़ल्ले से चल रही है नाइस पर संभागीय परिवहन ही ध्यान देता है ट्रैफिक विभाग ध्यान देता है यहां तक की वीरता की कहानी कहने वाले पुलिस विभाग की भी इस पर नजर नहीं जाती है सूत्रों के अनुसार डीएल से लेकर गाड़ियों के फिटनेस कराने में अच्छा खासा घूस देना पड़ता है