November 30, 2021

*वाराणसी में हुआ भारत रंग महोत्सव का उद्घाटन*

Spread the love

*यहाँ होगी तीन अंतरराष्ट्रीय नाटकोँ की प्रस्तुति*

वाराणसी : राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा आयोजित 20वेँ भारत रंग महोत्सव के सह-आयोजक शहर के तौर पर, वाराणसी ने आज श्री मुरारीलाल मेहता ऑडिटोरियम में आयोजित समारोह में धूमधाम से महोत्सव का उद्घाटन किया। प्रो राजेश्वर आचार्या, जो कि जाने-माने शास्त्रीय गायक और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित हैं, मिस निरुपमा कोटरू, आईआरएस, संयुक्त सचिव, एमओसी, भारत सरकार वाराणसी  ने 7 दिनो तक चलने वाले थिएटर फेस्टिवल का उद्घाटन किया। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के प्रभारी निर्देशक श्री सुरेश शर्मा ने मुख्य अतिथि व माननीय अतिथियो का स्वागत किया।

वाराणसी को काशी अथवा “रोशनी के शहर” के नाम से भी जाना जाता है, जो भारत के सबसे पवित्र स्थानोँ में से एक है। हिंदुओँ की श्रद्धा से जुडा यह शहर गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है और इसे यहाँ स्थित खूबसूरत मंदिरो और धार्मिक वातावरण के लिए जाना जाता है।

 

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के प्रभारी निर्देशक श्री सुरेश शर्मा ने कहा कि, “20वीँ सदी के आखिर में शुरू हुआ यह फेस्टिवल अब युवा हो चुका है। हमारे माननीय मंत्री से मिले प्रेम और प्रोत्साहन ने हमे देश के 16 राज्योँ में विस्तार करने के लिए प्रेरणा दी। मौजूदगी जितनी महत्वपूर्ण है उतनी ही उसकी गुणवत्ता भी। यह एक रिप्रजेंटेटिव फेस्टिवल है जो भारत में होने वाले अन्य फेस्टिवल से खुद को अलग साबित करेगा। हम केवल इस महोत्सव के संरक्षक हैं। यह सिर्फ बडे शहरोँ का फेस्टिवल नहीं है बल्कि इस फेस्टिवल को उन शहरोँ तक लेकर जाना भी महत्वपूर्ण था जहाँ क्षमताएँ तो हैं मगर उनका विकास ठहर सा गया है, जिसे आगे बढाने के लिए एक धक्का लगाने की जरूरत है। मैं उन सभी लोगोँ से क्षमा चाहता हूँ जिन्हेँ इस बार शामिल नहीं किया जा सका।“

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) सोसायटी के एक्टिंग चेयरमैन डॉ. अर्जुन देव चारण ने कहा कि, ““थिएटर हमारे जीवन का हिस्सा है, बावजूद इसके आज भी हम इसके प्रोत्साहन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। मुझे बेहद खुशी है कि महोत्सव के माध्यम से उन नाटकोँ से रूबरू होने का अवसर मिलेगा जिन्हे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा मिली है। हम चाहते हैं कि इस महोत्सव का आनंद अधिक से अधिक लोग ले सकेँ, खासतौर से युवा, और इस चाहत को पूरा करने के लिए हमने महोत्सव को पूरे देश में पहुंचाने का प्रयास किया है।“

उद्घाटन समारहोह के बाद सुशील शर्मा द्वारा निर्देशित नाटक ‘अमली’ पेश किया जाएगा। 20वेँ भारत रंग महोत्सव (बीआरएम) के तहत वाराणसी में 7 नाटकोँ का मंचन होगा, जिनमे 3 अंतरराष्ट्रीय प्रॉडक्शन शामिल हैं। शहर में जिन विदेशी नाटकोँ की प्रस्तुति होगी उनमेँ शामिल है ‘एलियन’ (तातर; फरीब बिक्चांताएव), ‘ऐन इलियड’ (अंग्रेजी; गाइ रॉबर्ट्स और रेबेका ग्रीक उदेन) और ‘दि ओपन कपल’ (बंगाली; सारा ज़ाकिर)। शहर में जिन भारतीय नाटकोँ का मंचन किया जाएगा वे हैं ‘अंधाराचा बेट’ (मराठी; श्रीकांत प्रभाकर भिडे), ‘डाकघर’ (बहुभाषी; तरुण प्रधान), और द्विजोश्रेष्ठो (बंगाली; शिवाजी सेनगुप्ता)।

नाटकोँ के अतिरिक्त, वाराणसी में समंद्ध कार्यक्रमोँ का आयोजन भी किया जाएगा जिसमेँ दो ‘लिविंग लेजेंड’ शामिल हैं, जिसकी शोभा बढाएंगे थिएटर के प्रसिद्ध व्यक्तित्व श्री बंसी कौल और श्री राजिंदर नाथ।

वाराणसी में इस महोत्सव का समापन 13 फरवरी 2019 को होगा।