January 26, 2021

वाराणसी – गोरखपुर की दो पैसेंजर ट्रेनें बनी एक्सप्रेस

Spread the love

अलईपुर स्थित वाराणसी सिटी रेलवे स्टेशन को टर्मिनस स्टेशन का दर्जा दिया जाएगा। पहले वाराणसी से गोरखपुर के लिए चलने वाली दो पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाया जाएगा। इसके बाद कैंट रेलवे स्टेशन से भी दो जोड़ी ट्रेनों को यहां से चलाने का प्रस्ताव है। यह जानकारी पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने दी। शुक्रवार को सुबह वह सिटी रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

वाराणसी सिटी से गोरखपुर के बीच दो जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चलाई जा रही थीं। लॉकडाउन के बाद से इनका परिचालन बंद है। गोरखपुर-वाराणसी-गोरखपुर (55119/55120 और 55149/55150) पैसेंजर ट्रेनें सारनाथ, कादीपुर, रजवारी, औड़िहार जं., माहपुर, सादात, हमरपुर, जखनिया, दुल्लहपुर, नैकडीह, पिपरी डीह, पनियरा, मऊ, इंदारा, चकरा रोड, किरिहड़ापुर, गोबिंदपुर डुगली, बेल्थरा रोड, तुर्तीपार, लार रोड, सलेमपुर, पीकल, भटनी, नुनखर, अहिल्यापुर, देवरिया, बैतालपुर, गौरी बाजार, चौरीचौरा, सरदारनगर, कुसुम्ही, गोरखपुर कैंट होकर गोरखपुर जंक्शन तक जाती हैं। एक्सप्रेस ट्रेनों के रूप में चलाये जाने के बाद कुछ हॉल्ट की कटौती की जा सकती है।

महाप्रबंधक ने रेलवे के निजीकरण का खंडन किया। इसके बाद वह औड़िहार रूट के विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण के लिए निकल गये। औड़िहार में डेमो शेड का निरीक्षण किया। दुल्लहपुर स्टेशन के निकट 6.24 एकड़ में निर्माणाधीन टावर वैगन शेड की कार्य प्रगति देखी। 3780 वर्गमीटर के क्षेत्रफल में बने शेड, 1.2 रूट किमी डबल लाइन, 650 वर्गमीटर क्षेत्रफल में पक्के निर्माण का निरीक्षण किया। इस मौके पर डीआरएम वीके पंजियार, एडीआरएम प्रवीण कुमार, एसपीएस यादव, सीएमएस डॉ. एमएस नबियाल, सीनियर डीओएम रोहित गुप्ता, सीनियर डीईएन राजीव अग्रवाल, सीनियर डीईएन संजीव शर्मा समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

निर्माण कार्य तेज करने का निर्देश

महाप्रबंधक ने सिटी स्टेशन के नये एफओबी, प्लेटफार्म, यात्री विश्रामालय, डारमेट्री, विशिष्ट कक्ष, सामान्य यात्री हाल तथा यार्ड रीमॉडलिंग से सम्बंधित विभिन्न विकास कार्यों का निरीक्षण किया और काम मे तेजी लाने का निर्देश दिया।

अभी केवल एक एक्सप्रेस ट्रेन

सिटी रेलवे स्टेशन से अब तक एकमात्र कृषक एक्सप्रेस ही ऐसी ट्रेन है, जो एक्सप्रेस के रूप में चलाई जा रही है। बाकी पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन और अन्य मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव होता रहा है।

दो नए प्लेटफार्म बने

सिटी स्टेशन पर पहले यहां तीन प्लेटफार्म थे। अब पांच बन गए हैं। इसके अलावा वाशिंग पिट और सर्कुलेटिंग एरिया का विस्तार किया गया है।