January 17, 2021

लखनऊ में गैंगवार से डरा BSP MLA का परिवार- अजय मिश्रा

Spread the love

लखनऊ में गैंगवार से डरा BSP MLA का परिवार:

-विधायक वंदना सिंह के परिवार ने सुरक्षा मांगी, कहा- माफिया कुंटू ने गवाह अजीत को मरवाया——-

 

 

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पॉश विभूति खंड क्षेत्र में बुधवार रात दो गुटों के बीच जमकर फायरिंग हुई। इस दौरान मऊ के रहने वाले पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस हत्याकांड से आजमगढ़ के सगड़ी से बसपा विधायक वंदना सिंह का परिवार सहम गया है। दरअसल, वंदना सिंह के पति पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू की 17 साल पहले हत्या कर दी गई थी। अजीत इस केस में प्रमुख गवाह था। इस हत्याकांड में माफिया कुंटू सिंह का नाम आया था। वह आजमगढ़ जेल में बंद है। सीपू सिंह के भाई संतोष सिंह का आरोप है कि कुंटू सिंह जेल से धमकी दे रहा है। पुलिस अधीक्षक ने सुरक्षा देने का आश्वासन दिया है।

 

साल 2013 में हुई थी पूर्व विधायक सर्वेश की हत्या–

 

दरअसल, 19 जुलाई 2013 को आजमगढ़ के जीयनपुर बाजार में सगड़ी के पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू की उनके आवास के पास ही हत्या कर दी गई थी। इस हत्या में पूर्व विधायक सीपू सिंह के साथ भरत राय की भी मौत हुई थी। इसके बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए थे। जगह-जगह तोड़फोड़ और आगजनी शुरू हो गई थी और इस मामले में तीन अन्य लोगों की भी मौत हुई थी। मामला पूर्व विधायक की हत्या से जुड़ा हुआ था, इसलिए इस मामले को कुछ दिनों बाद CBI को जांच स्थानांतरित कर दी गई। इस मामले में पूर्वांचल के माफिया और इसी जिले के रहने वाले कुंटू सिंह का नाम सामने आया था, जो इस समय जेल में बंद है। तब से कुंटू सिंह सहित उसके कई साथियों पर हत्या का मुकदमा चल रहा है। हाईकोर्ट ने मुकदमे का सुनवाई समय बद्ध तरीके किए जाने का निर्देश दिया था।

 

मृत पूर्व विधायक सर्वेश सिंह की पत्नी वंदना सिंह वर्तमान में सगड़ी से बसपा विधायक हैं।

मृत पूर्व विधायक सर्वेश सिंह की पत्नी वंदना सिंह वर्तमान में सगड़ी से बसपा विधायक हैं।

कुंटू सिंह ने अजीत को धमकाया था

 

इस हत्याकांड में मऊ में मोहम्मदाबाद गोहना के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह भी पूर्व विधायक सिपू सिंह की ओर से गवाह थे। सीपू सिंह के भाई संतोष सिंह टीपू की गवाही पूरी हो गई है। अब अजीत सिंह को न्यायालय में इस हत्याकांड की गवाही करनी थी। संतोष सिंह ने बताया कि अजीत सिंह को कुछ दिन पहले से इस बात की धमकी मिल रही थी कि वह मेरे भाई पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू हत्याकांड में माफिया कुंटू सिंह के विरुद्ध गवाही ना करें। लेकिन वह इस बात से भयभीत नहीं हुए और वह गवाही करने वाले थे। अजीत सिंह की हत्या इसी का परिणाम है। आज पुलिस अधीक्षक से मिलकर परिवार और स्वयं की सुरक्षा की मांग की है।

 

विधायक के भाई ने SP से की मुलाकात—

 

संतोष सिंह टीपू ने बताया कि पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने उनको सुरक्षा का पूरा भरोसा दिलाया है। लेकिन जेल अधिकारियों से खासा नाराजगी है। उनका कहना है कि कुंटू सिंह आजमगढ़ की जेल में ही बंद है और वहां से खुलेआम मोबाइल के जरिए लोगों को धमकियां दे रहा है और उसने कल लखनऊ में हुई हत्या को अंजाम दिलवाया। जिससे कि वह मेरे भाई की हत्या के मामले में अजीत सिंह की गवाही ना हो सके।

 

SP ने सुरक्षा का भरोसा दिया–

 

इस मामले में पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने संतोष सिंह को सुरक्षा का आश्वासन दिया है। वहीं, आरोपी कुंटू सिंह को लेकर लगातार कार्रवाई की जा रही है, उस मुकदमे में सुनवाई भी की जा रही है। मर्डर को लेकर आजमगढ़ की पुलिस भी पूरे मामले में पैनी नजर रख रही है। बताया कि हाल ही में संपत्ति जब्ती और 3 गैंगस्टर कार्रवाई भी की गई है। उसकी अवैध संपत्ति पर बुल्डोजर चलाया गया है।

 

 

कभी एक साथ काम करते थे कुंटू और अजीत—-

 

अजीत सिंह और कुंटू सिंह पहले एक ही साथ काम किया करते थे और इलाके में इनका बहुत वर्चस्व था। लेकिन किसी बात को लेकर दोनों में अदावत हो गई और अजीत सिंह ने अपना एक अलग गिरोह खड़ा कर लिया था। अजीत सिंह के खिलाफ 5 हत्याओं समेत 18 मुकदमे दर्ज हैं। जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर 30 दिसंबर 2020 को उसे जिला बदर किया गया था। बता दें कि बुधवार की रात हुई अजीत सिंह हत्या के प्रकरण में लखनऊ पुलिस ने अजीत सिंह के साथी मोहर सिंह की तहरीर पर कुंटू सिंह, अखंड सिंह व गिरधारी विश्वकर्मा पर IPC की धारा 302, 307,120B, धारा 34 के तहत FIR दर्ज की है।