April 15, 2024

लखनऊ मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यूपी भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में अपरान्ह 4 बजे एक प्रेसवार्ता की

Spread the love

लखनऊ 10 जनवरी केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यूपी भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में अपरान्ह 4 बजे एक प्रेसवार्ता की। प्रेसवार्ता में उपस्थित पत्रकारो से बात करते हुए नकवी ने कहा कि आज नागरिकता कानून को लेकर विपक्ष द्वारा जो दुष्प्रचार किया जा रहा है वह एक बड़े राजनीतिक षडयंत्र का हिस्सा है। विपक्षी दलों कांग्रेस और वामपंथी दलों द्वारा जो षडयंत्र रकहा जा रहा है वह पोलिटिकल पाखंड है। नौजवानों के कंधों पर बंदूक रखकर यह अशांति फैलाकर एक वर्ग विशेष को भ्रमित कर अपनी राजनीति कर रहे हैं।

मंत्री ने सीएए के बारे में कहा कि इसमें कई संशोधन करने के बाद यह बिल लाया गया है। हम चाहते तो जनवरी 2019 में ही इसे पास करा लेते परन्तु तब इस बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजा गया। 7 जनवरी को कमेटी ने अपनी रिपोर्ट दी और 8 जनवरी को यह बिल लोकसभा में पास होकर राज्यसभा को भेजा गया।

राज्यसभा में यह बिल पेंडिंग पड़ा रहा। फिर जब नई सरकार आई तो इसे दोबारा पास किया गया। इस प्रकार लोकसभा से दो दो बार पास होने के बाद यह CAB राज्यसभा से पास हुआ और CAA कानून बना।

जो लोग भी इस कानून के नाम पर विरोध कर रहे हैं उन्हें मालूम है कि हिंदुस्तान का कोई नागरिक इस कानून से प्रभावित नहीं है। ना हिन्दू ना मुसलमान कोई भारतीय इस कानून से प्रभावित नही होगा।

इस देश का मुसलमान यहां कम्पलसन से नहीं कमिटमेंट से रहता है। कुछ लोग निजी हितों के लिए उन्हें भ्रमित करना चाहते हैं। यह ताकतें कामयाब नहीं होंगी। और उनके द्वारा जो भ्रम पूर्ण साजिश की जा रही है इसका पर्दाफाश भी हो रहा है।

कोई सरकार नहीं चाहती नागरिक हिंसा

मंत्री ने कहा यह जो कुछ बवाल और देश के नागरिकों का नुकसान हुआ है, यह भ्रम पैदा करने वालों की साजिश के चलते हुआ है। जितने बड़े पैमाने पर लोगों में डर फैलाकर इस कानून के बारे में एक वर्ग को डराया गया इसका अंदाजा नहीं था। फिर भी सरकार ने देश विरोधी ताकतों के द्वारा फैलाये जा रहे भ्रम केखिलाफ कमर कसी और आज देश को पता है कि किसी भारतीय पर इस कानून का कोई प्रभाव नहीं होगा।

हम भी देखेंगे छपाक फ़िल्म

मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि जब उन्हें समय मिलेगा तो वह भी छपाक फ़िल्म को देखना चाहेंगे।