August 15, 2020

राज्य महिला आयोग द्वारा इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में चल रहे महिला जागरूकता कार्यक्रम – अजय मिश्रा

Spread the love

लखनऊ राज्य महिला आयोग द्वारा इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में चल रहे महिला जागरूकता कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में मौजूद महिलाओं को किया संबोधित इस दौरान उन्होंने कहा कि महिला आयोग को महिला जागरूकता कार्यक्रम राजधानी लखनऊ में करने के लिए धन्यवाद महिला सुरक्षा के प्रति जागरूकता के कार्यक्रम शासन केसाथ महिला आयोग भी इसकेबारे में सक्रिय हो सचेत हो ये महत्वपूर्ण है आज से 5 साल पहले बहुत से जनपदों में।बालक बालिकाओं के बीच अनुपात में बड़ा अंतर आ गया था,मोदी जी के अभियान ने इसे दूर किया । प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना,मिशन इंद्रधनुष या सदियों से पीड़ित महिलाओं को तीन तलाक की कुप्रथा से निजात दिलाना हो ।
इन योजनाओं के प्रति आम जनमानस को जागरूक करना,लाभान्वित कर सके इसके लिए कार्यक्रम को आगे बढ़ाना महिला आयोग का प्राथमिक दायित्व बनना चाहिए जब योजनाओं के बारे में जानकारी नहीं होती तो हम अलग अलग मुद्दों को उठाते हैं ।बहुत सारी योजनाएं चल रही हैं | हम महिला सशक्तीकरण अभियान को नई ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं |

महिला सुरक्षा के कार्यक्रम को औपचारिकता नहीं ,जिलों विकास खण्डों,ग्राम पंचायत स्तर पर क्या महिलाओं की ऐसी टीम बना सकते हैं जो महिलाओं को जागरूक कर सके नारी गरिमा के लिए भी शौचालय बहुत महत्वपूर्ण था,महिला आयोग क्या इसको बताएगा स्वच्छ भारत अभियान में उसकी क्या भूमिका रही महिला आयोग का दायित्व बनता था और बनता है सभी महिलाओं के लिए जो योजनाएँ हैं उसको आगे करें 1090 वीमन पावर लाइन में कोई भी महिला अगर काल करती है तो सहायता मिलती है ।इसको इंटीग्रेट भी किया ।75 में से 5 जिलों से मामले आएं जब समीक्षा की ।क्यों न ।महिला आयोग अन्य जनपदों में जागरूक करे घरेलू हिंसा से जुड़े मामलों पर 112,1090 जैसे सभी नम्बरों को इंटीग्रेट किया जिससे किसी एक नम्बर पर भी अगर कॉल आती है तो सहायता पहुंचाई जा सके बालक और बालिकाओं के अनुपात अगर कम हो रहा है जहां पेट मे ही बालिकाओं को मार दिया जाता है बिना रजिस्ट्रेशन के चलने वाले अल्ट्रासाउंड सेंटरों की जानकारी करना।बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान ने तो सफलता प्राप्त की लेकिन हम भी भेदभाव न हो इसको देखें इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि जब मैं एक जनपद में गया तो देखा नंगे पैर बालिकाएं जा रहीं थीं भाई पब्लिक स्कूल जाता है ।प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद के पाठ्यक्रम को बदलेंगे ऐसा हमने,हर विद्यालय में NCERT के पाठ्यक्रम को लागू करेंगे सोचा, 1 करोड़ 80 लाख बालक एयर बालिकाओं को पिछले 3 वर्षों से यूपी सरकार अच्छी यूनिफार्म,जूते मोजे उपलब्ध करवा रही है |

महिला सम्बन्धी अपराधों को रोकने के लिए 218 फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने का काम शुरु किया ,अपराधियों को समयबद्ध ढंग से सजा का परिणाम है 6 महीने में ही ,एक सप्ताह 10 दिन के अंदर अपराधी की गिरफ्तारी चार्जशीट यहां तक 3 को मृत्यु दंड 15 को आजीवन कारावास की सजा दिलवा चुके हैं हम

प्रदेश में पहले 54 बटालियन pac की पिछली सरकारों ने खत्म कर दी थीं वो तो शुरू ही की,3 और महिला बटालियन का निर्णय लिया,20 फीसदी भर्ती में सिर्फ महिलाओं के लिए कहा है  Prv 112 महिला कांस्टेबल के साथ महिला को उसके गन्तव्य तक पहुंचाने का काम करेगी ये हमने प्रदेश में शुरू किया है। हमें हर ग्राम पंचायत, हर नगर निकाय तक पहुंचना होगा,महिला जागरूक समिति का गठन करना होगा। बालिकाओ की शिक्षा,कुपोषण सुरक्षा का मामला हो सकता है विभिन्न जनपदों में ,सिर्फ डीजीपी प्रमुख सचिव के साथ बैठक करके इन समस्याओं को हल करना बहुत कठिन होगा। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना शुरू की है।15 हजार रुपए का पैकेज बालिका को सरकार दे रहीं है,मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में 51 हजार का लाभ सरकार दे रही है।बालिका के नाम का रजिस्ट्रेशन होते ही उसके नाम पर पैसा जाएगा ।सभी प्रकार के टीके लगवा लिए हैं इसका सर्टिफिकेट भी आना चाहिए।पहली ,छठी नौंवी क्लास और डिप्लोमा ,डिग्री करने के बाद भी उसके अकाउंट में पैसा दिया जाएगा।
योजनाओं का दुरुपयोग न हो इसके लिए भी सतर्क रहना है।जब कानून और योजनाओं का दुरुपयोग होता है तो जनता का भरोसा उन योजनाओं के प्रति खत्म हो जाता है और योजनाएं यूजलेस हो जाती हैं।