October 23, 2021

राजधानी लखनऊ ।…

Spread the love

संपादक की कलम से :
सिया राम मिश्र ,
विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहां कि राम मंदिर निर्माण मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के टालमटोल वाले रवैये के बाद हिंदू समाज की भावना को देखते हुए ही विहिप ने 25 नवम्बर को अयोध्या में धर्मसभा का आयोजन रखा है । इस धर्मसभा से मंदिर निर्माण का शंखनाद किया जाएगा । राम मंदिर निर्माण पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई टलने से हिंन्दुओं में आक्रोश है । सर्वोच्च न्यायालय को देश के हिंदू समाज की आस्था को भी प्राथमिकता से समझना चाहिए ।
लखनऊ में आयोजित एक प्रेस काँन्फ्रेंस में श्री राय ने दावा किया है कि धर्मसभा में एक लाख से अधिक रामभक्त शामिल होंगे ।इसी दिन बंगलूरू में भी धर्मसभा होगी । नवम्बर में ही सभी संसदीय क्षेत्रों में भी जनसभाएं भी की जाएंगी । विहिप के प्रतिनिधि साधु-संतों के साथ सांसदों से मुलाकात कर उन्हें संसद में कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने का आग्रह करेंगे । 9 दिसंबर को दिल्ली में भी धर्मसभा का आयोजन किया जाएगा , इसमें पांच लाख से अधिक हिंदू शामिल होगे । उधर , विहिप के प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि आखिर हिंदू समाज कब तक उपेक्षा को बर्दाश्त करे । अयोध्या और दिल्ली की धर्मसभाएं न्यायालय से लेकर सरकार तक को बता देंगी कि हिंदू समाज को आस्था और श्रद्धा की उपेक्षा करना ठीक नहीं है । न्यायालय जनभावनाओं की अनंतकाल तक उपेक्षा नहीं कर सकता है । मंदिर आन्दोलन किसी कृपा पर निर्भर नहीं है ।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस पर राम मंदिर निर्माण में बाधा डालने का आरोप लगाया है । छत्तीसगढ़ में चुनाव प्रचार करने पहुंचे योगी ने धमतरी में रैली में कहां कि ‘ राम किसे और राम का कौन ? जो राम का नहीं वो किसी काम का नहीं । योगी ने जनता से राम मंदिर निर्माण में बाधा डालने वालों को वोट न देने की अपील किया । उन्होंने कहा कि 20 नवम्बर को वोटिंग है और इस दिन मंगलवार भी है । मंगलवार बजरंगबली का दिन है और बजरंगबली भगवान राम के परम भक्त हैं । इसलिए राम मंदिर निर्माण में अड़ंगा लगाने वालों को वोट न करें ।
MVD INDIA NEWS ●●●●●