November 30, 2021

योग गुरु बाबा रामदेव ने संस्कृत और संस्कृति की रक्षा के लिए …..…….

Spread the love

वाराणसी : संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में आयोजित अभिनंदन समारोह में योग गुरु बाबा रामदेव ने संस्कृत और संस्कृति की रक्षा के लिए पंतजलि विश्वविद्यालय और संस्कृत विश्वविद्यालय के साथ मिलकर काम करने की बात कही । इसके लिए पाठ्यक्रम से लेकर अन्य जरूरी औपचारिकता भी जल्द ही पूरी कर ली जाएंगी । योग गुरु ने सभी को एकजुट होकर संस्कृत की गरिमा बनाए रखने का संकल्प दिलाया ।
विश्वविद्यालय परिसर में अपने एक उत्पाद के लिए चल रही शूटिंग में भाग लेने आए रामदेव ने MVD INDIA NEWS बताया कि दुनिया के किसी भी धर्मग्रंथ में गणित , भौतिक , रसायन , बिजनेस मैनेजमेंट नहीं है लेकिन यह सब मूल रूप से वेद में विद्यमान है । योग गुरु ने यह भी कहां कि दिल्ली में दुनिया का सबसे बड़ा आवासीय विश्वविद्यालय बनाने की तैयारी चल रही है । इसके लिए डेढ़ हजार एकड़ जमीन की तलास हो चुकी है और दस से पन्द्रह साल में बनकर तैयार हो जाएगा । इसमें एक लाख विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर सकेगें।
संस्कृत विश्वविद्यालय में विद्वानों का पुरुषार्थ रहा है लेकिन अभी भी प्रगति पर जाने और विश्वसनियता को बनाए रखने के लिए बहुत मेहनत करने की जरूरत है । किसी भी संस्थान को गौरव पाने के लिए बहुत पुरुषार्थ करना होता है । उन्होंने यह भी बताया की प्रतिष्ठा हो तो यही ठीक है । कुछ लोगों की वजह से संस्कृत विश्वविद्यालय का गौरव कमजोर हुआ है । संस्कृत विश्वविद्यालय की हालत ठीक नहीं , बीएचयू को संभालने की जरूरत हे ।
” संस्कृत की गरिमा बनाए रखने का संकल्प दिलाया ”
————योग गुरु रामदेव जी

सियाराम मिश्रा…..