January 25, 2021

योगी सरकार के निर्देशों के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में 50 की उम्र पार कर चुके प्रभावी काम करने में अक्षम कर्मियों को रिटायर करने की कार्रवाई शुरू- अजय मिश्रा

Spread the love

लखनऊ(एक नज़र)

 

योगी सरकार के निर्देशों के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में 50 की उम्र पार कर चुके प्रभावी काम करने में अक्षम कर्मियों को रिटायर करने की कार्रवाई शुरू हो चुकी है. इसी क्रम में लखनऊ कमिश्नरेट में तैनात 11 पुलिसकर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई. इन पुलिसकर्मियों की उम्र 50 से अधिक थी और स्क्रीनिंग में ये प्रभावी कर्मी काम कर पाने में अक्षम पाए गए थे, इसलिए इन्हें रिटायर कर दिया गया. जबरन रिटायर किए गए पुलिसकर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्त दी गई है उनमें 3 सब इंस्पेक्टर, 7 कांस्टेबल और 1 चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी शामिल है. शासन को इसकी रिपोर्ट कमिश्नर डीके ठाकुर ने भेजी थी.

 

लखनऊ कमिश्नरेट में तैनात पुलिसकर्मियों की फिटनेस जांच के बाद पहली सूची जारी की गई है, जल्द ही ऐसे कई और पुलिसकर्मियों की सूची जारी की जाएगी. आपको बता दें कि योगी सरकार के निर्देश पर डीजीपी मुख्यालय ने बीते सितंबर में सभी पुलिस जोन के एडीजी, लखनऊ और नोएडा पुलिस कमिश्नर को पत्र लिख 31 मार्च 2020 को 50 साल की आयु पूरी कर चुके अक्षम पुलिसकर्मियों की स्क्रीनिंग कराए जाने के निर्देश दिए थे. जिलों में स्क्रीनिंग की जिम्मेदारी पुलिस अधीक्षकों को सौंपी गई थी. अब सभी जिलों में 50 की उम्र पार कर चुके सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर पद तक के पुलिसकर्मियों की स्क्रीनिंग कराई जा रही है. स्क्रीनिंग के बाद जो पुलिसकर्मी अक्षम पाए जा रहे हैं, उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्त दी जा रही है.