November 27, 2021

यूपी में बारिश के कहर से लगभग 25 लोगों की मौत,जगह जगह जल भराव से यातायात बुरी तरह प्रभावित

Spread the love

सबसे अधिक 9 मौतें ब्रज क्षेत्र में हुई. मेरठ और मुजफ्फरनगर ने तीन-तीन लोगों ने जान गंवाई. बरेली में दो और गाजियाबाद, हापुड़, झांसी, रायबरेली, कानपुर देहात, जालौन, जौनपुर में 1-1 लोगों के मरने की सूचना है.

उत्तर प्रदेश में गुरुवार को हुई बारिश ने कहर बरपाया. आफत की इस बारिश में 25 लोगों की जान चली गई , जबकि जाम, जलभराव और सड़क धंसने से आम जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया. सबसे अधिक 9 मौतें ब्रज क्षेत्र में हुई. मेरठ और मुजफ्फरनगर ने तीन-तीन लोगों ने जान गंवाई. बरेली में दो और गाजियाबाद, हापुड़, झांसी, रायबरेली, कानपुर देहात, जालौन, जौनपुर में 1-1 लोगों के मरने की सूचना है.
प्रदेश के कई जिलों में शहरों से लेकर गांव तक में भारी बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालत पैदा हो गए हैं. पानी से कहीं सड़कें बह गईं तो कहीं सड़कें नहर बन चुकी हैं. आगरा में भारी बारिश से रेलवे ट्रैक पर पानी भर गया. जिसकी वजह से सिग्नल फेल हो गया. भारी बारिश में दर्जनों ट्रेन जहां-तहां खड़ी हो गईं, जिसमें हजारों यात्री फंसे रहे.
26 घंटे से रूक-रूककर लगातार हो रही बारिश से लखनऊ भी बेहाल रहा. इंदिरानगर, उतरेतिया, गणेशगंज, जीएसआई, समेत एक तिहाई शहर की बिजली गुल हो गई. जलभराव की वजह से पूरे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त नजर आई. सआदतगंज के कश्मीरी मोहल्ले में 80 साल पुराना मकान ढह गया. इसमें तीन बच्च्यों समेत एक लोग घायल हो गए.

आगरा में भी पूरा शहर जलमग्न दिखाई दिया,लगभग48 घंटे से रुक रुक कर हुई बारिश ने पूरे शहर को तालाब बना कर रख दिया,

ये तस्वीर आगरा के सूर सदन चौराहे के पास की है,यहां आप देख सकते हैं कि किस तरह चार पहिया वाहन भी लगभग पूरी तरह डूब चुका है,यहां नगर निगम की नाकामी देखने को मिली,पूरे शहर को जल भराव की समस्या का सामना करना पड़ रहा है,ये समस्या नई नहीं है शहर वासियों को हर मानसून में इस समस्या से दो चार होना पड़ता है,अब देखना ये है कि बड़ी बड़ी बातें करने वाले निगम के आला अधिकारी जनता की समस्याओं की सुध लेते हैं या जल भराव की समस्या यूं ही बरकरार रहेगी?