May 28, 2022

यूक्रेन युद्ध के बीच दिखी एलन मस्क की ‘पावर’, छोटी-सी डिश ने बहाल किया हाईस्पीड इंटरनेट-

Spread the love

यूक्रेन युद्ध के बीच दिखी एलन मस्क की ‘पावर’, छोटी-सी डिश ने बहाल किया हाईस्पीड इंटरनेट

 

कीवः रूस की ओर से थोपे गए युद्ध की मार झेल रहे यूक्रेन के लिए एलन मस्क किसी वरदान से कम नहीं हैं. रूसी हमले की वजह से जहां यूक्रेन के तमाम इलाकों में बिजली, कम्यूनिकेशन, इंटरनेट, मोबाइल सिग्नल सब ठप हैं, वहीं एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स के बनाए छोटे-छोटे सैटेलाइट टर्मिनल्स की मदद से यूक्रेन के दूरदराज के इलाकों में भी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर पा रहे हैं. आमतौर पर इंटरनेट के लिए समुद्र के नीचे लंबे-लंबे तार बिछाए जाते हैं, लेकिन मस्क की कंपनी ने सैटलाइट के जरिए कहीं पर भी इंटरनेट सर्विस देने के तकनीक तैयार की है. सैटलाइट टर्मिनल्स इसी का हिस्सा हैं.

 

यूक्रेन की एक पत्रकार क्रिस्टीना बर्दिंस्कीख (Kristina Berdynskykh) ने एक तस्वीर ट्वीट की है. कीव के पास इवानकीव गांव की इस तस्वीर में कुछ लोग एक जगह पर जमा होकर अपने-अपने मोबाइल चला रहे हैं. बीच में छोटी सी सैटलाइट डिश रखी हुई है. क्रिस्टीना ने ट्वीट में लिखा, “ये है एलन मस्क की पावर! इवानकीव में बिजली, मोबाइल कम्यूनिकेशन और इंटरनेट सुविधाएं ध्वस्त हो चुकी हैं और स्टारलिंक की बदौलत यहां के लोग पहली बार अपने करीबियों से संपर्क कर पा रहे हैं.”

 

युद्ध के तुरंत बाद से दे रहा इंटरनेट

युद्ध शुरू होने के बाद यूक्रेन के एक मंत्री ने एलन मस्क से वहां इंटरनेट सुविधाएं उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था. इसके तुरंत बाद 26 फरवरी को मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने अपनी स्टारलिंक सर्विस को यूक्रेन में एक्टिवेट कर दिया था. कंपनी ने वहां हाईस्पीड इंटरनेट देने के लिए अंतरिक्ष में अपने सैटलाइट को निचली कक्षा में स्थापित कर दिया है. इसी हफ्ते यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (USAID) ने बताया था कि उसने यूक्रेन में 5 हजार स्टारलिंक टर्मिनल भेजे हैं ताकि लोग इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकें.

 

 

अमेरिका ने मोटी रकम खर्च की

न्यूयॉर्क टाइम्स के रिपोर्टर जोई रॉलैट (jpey roulett) ने दावा किया था कि स्पेसएक्स ने यूक्रेन को 3667 इंटरनेट टर्मिनल दान किए हैं, जिनकी कीमत एक करोड़ डॉलर से ज्यादा है. कंपनी इसके साथ 3 महीने का डाटा भी फ्री दे रही है. लेकिन अमेरिका के नामी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट ने शनिवार को खुलासा किया कि भले ही स्टारलिंक दावा कर रही हो कि यूक्रेन में इंटरनेट टर्मिनल भेजने के लिए उसे अमेरिकी सरकार से कोई पैसा नहीं मिला है, लेकिन यह बात सच नहीं है. अमेरिका की सरकार ने इन टर्मिनल्स को खरीदने और यूक्रेन भेजने पर करीब 20 लाख डॉलर खर्च किए हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि USAID ने 1500 डॉलर के हिसाब से 1333 टर्मिनल खरीदे हैं.