October 28, 2020

मुख्यमंत्री ने संस्कृत विद्यालयों की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के निर्देश दिए – अजय मिश्रा

Spread the love

मुख्यमंत्री ने संस्कृत विद्यालयों की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के निर्देश दिए

 

वर्तमान प्रदेश सरकार संस्कृत भाषा के उन्नयन के लिए कृतसंकल्पित

 

संस्कृत विद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों की आवश्यकताओं

के अनुरूप उनके लिए रहने तथा भोजन आदि की व्यवस्था की जाए

 

इस सम्बन्ध में स्वयं सेवी संस्थाओं तथा सी0एस0आर0

फण्ड का सहयोग भी प्राप्त किया जाए

 

वर्तमान सरकार के सकारात्मक रुख के कारण ही

माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद का गठन सम्भव हुआ

 

संस्कृत के उन्नयन के लिए आवश्यक है कि इसको आधुनिकता से जोड़ा जाए

 

संस्कृत विद्यालयों में पारम्परिक पठन-पाठन के साथ-साथ

विज्ञान, कम्प्यूटर तथा गणित की शिक्षा प्रदान करना भी आवश्यक

 

लखनऊ: 15 अक्टूबर, 2020

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने संस्कृत विद्यालयों की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार संस्कृत भाषा के उन्नयन के लिए कृतसंकल्पित है। इसके दृष्टिगत राज्य सरकार ने अनेक निर्णय लिए हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि संस्कृत विद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों की आवश्यकताओं के अनुरूप उनके लिए रहने तथा भोजन आदि की व्यवस्था की जाए। इस सम्बन्ध में स्वयं सेवी संस्थाओं तथा सी0एस0आर0 फण्ड का सहयोग भी प्राप्त किया जाए।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान सरकार के सकारात्मक रुख के कारण ही माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद का गठन सम्भव हुआ है। माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद के गठन से परीक्षाएं समय पर सम्पन्न हो रही हैं तथा इनके परिणाम भी समय पर आ रहे हैं। परिषद की वेबसाइट को लाॅन्च करते हुए संस्कृत को तकनीक के साथ जोड़ने का काम किया गया है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि संस्कृत के उन्नयन के लिए आवश्यक है कि इसको आधुनिकता से जोड़ा जाए। संस्कृत विद्यालयों का पाठ्यक्रम ऐसा होना चाहिए, जिससे शिक्षा को गुणवत्तापरक बनाते हुए विद्यार्थियों का भविष्य भी बेहतर हो सके। उन्होंने कहा कि दुनिया मान रही है कि संस्कृत ही कम्प्यूटर की सबसे सुगम भाषा हो सकती है। इसलिए संस्कृत विद्यालयों में पारम्परिक पठन-पाठन के साथ-साथ विज्ञान, कम्प्यूटर तथा गणित की शिक्षा प्रदान करना भी आवश्यक है। इसके माध्यम से संस्कृत का आधुनिकता व पुरातन के साथ सामंजस्य स्थापित हो सकेगा।