November 23, 2020

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के दृष्टिगत पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए- अजय मिश्रा

Spread the love

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के दृष्टिगत पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए

 

संक्रमण से बचाव तथा उपचार की व्यवस्था को पूरी सक्रियता से संचालित करें

 

छठ पर्व को देखते हुए पूरी सावधानी बरती जाए

 

प्रतिदिन आर0टी0पी0सी0आर0 विधि से 65 से 75 हजार टेस्ट तथा

रैपिड एन्टीजन विधि से 90 हजार से 01 लाख 10 हजार टेस्ट किए जाए

 

काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग की व्यवस्था को प्रभावी बनाए रखा जाए

 

यह सुनिश्चित किया जाए कि इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड

कन्ट्रोल सेन्टर पूरी सक्रियता से कार्य करें

 

लोगों को संक्रमण से सुरक्षित रखने के बारे में निरन्तर जागरूक किया जाए

 

कोविड चिकित्सालयों तथा मेडिकल काॅलेजों में बेड्स की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाए

 

लखनऊ: 19 नवम्बर, 2020

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कोविड-19 के दृष्टिगत पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में थोड़ी लापरवाही भी भारी पड़ सकती है। उन्होंने संक्रमण से बचाव तथा उपचार की व्यवस्था को पूरी सक्रियता से संचालित किये जाने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि छठ पर्व को देखते हुए पूरी सावधानी बरती जाए। उन्होंने पर्व के दौरान घाटों पर साफ-सफाई की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 की चेन को तोड़ने में मेडिकल टेस्टिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने टेस्टिंग कार्य को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन आर0टी0पी0सी0आर0 विधि से 65 से 75 हजार टेस्ट तथा रैपिड एन्टीजन विधि से 90 हजार से 01 लाख 10 हजार टेस्ट किए जाएं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग की व्यवस्था को प्रभावी बनाए रखा जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर पूरी सक्रियता से कार्य करें। प्रत्येक जनपद में जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रतिदिन सुबह कोविड अस्पताल में तथा शाम को इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर में नियमित तौर पर समीक्षा बैठक सम्पन्न की जाए।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जब तक कोविड-19 की कोई कारगर दवा अथवा वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो जाती, तब तक बचाव ही उपचार है। इसे ध्यान में रखते हुए लोगों को संक्रमण से सुरक्षित रखने के बारे में निरन्तर जागरूक किया जाए। इसके लिए विभिन्न प्रचार माध्यमों के साथ-साथ पब्लिक एड्रेस सिस्टम के द्वारा लोगों को जानकारी दी जाए।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी कोविड चिकित्सालयों तथा मेडिकल काॅलेजों में उपचार की व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त रखा जाए। इन अस्पतालों में बेड्स की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाए। उन्होंने चिकित्सालयों में उपलब्ध संसाधनों की नियमित समीक्षा किए जाने के निर्देश भी दिए हैं।

इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह, स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री अतुल गर्ग, मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी, अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं सूचना श्री नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना श्री संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

——–