January 21, 2022

मदांध थाना प्रभारी नें पत्रकारों से किया दुर्व्यवहार*

Spread the love

================================
*पैसा लेकर जमीन पर कब्जा कराना एवं पालतू दलालों से धन उगाही कराना है मुख्य कार्य*
—————————————————–
बड़ागांव थानाक्षेत्र के मदनपुर में दो पक्षों के बीच जमकर चल रहे लाठी डण्डे की सूचना पर पहुंचे क्षेत्रीय पत्रकारों द्वारा मारपीट की घटना को कैमरे में कैद करना व उसकी रिकार्डिंग करना बड़ागांव पुलिस को इस कदर नागवार गुजरा कि मानवाधिकार की धज्जियाँ उड़ाते हुये लोकतंत्र कें चौथे स्तम्भ माने जानें वाले मीडिया के एक प्रतिनिधि घनश्याम गुप्ता से बदसलूकी कर उनका मोबाईल छीन लिया । वहाँ से पीड़ित पत्रकार अपना मोबाईल लेने अपने अन्य सहयोगियों के साथ बड़ागांव थाना परिसर में आये । जहाँ पुलिस उक्त दोनों पक्षों की जमकर लाठियों से बर्बरता पूर्वक पिटायी कर रही थी । वहाँ पत्रकारों को देखते ही कुर्सी के मद में मदांध थाना प्रभारी महेश पाण्डे लाल कपड़ा देख भड़के सांड़ की भाँति भड़क कर पीड़ित पत्रकार का कालर पकड़ लिया एवं बारी / बारी सभी पत्रकारों का मोबाईल छीन कर उसमे फोटो व रिकार्डिंग खोजने लगा । इसी बीच एक पत्रकार असलम नें कहा कि साहब आप यह ठीक नहीं कर रहे हैं । तब उक्त बिगड़ैल मदांध साँड नें *जबरा मारै रोये न देय* की कहावत चरितार्थ करते हुये एवं ब्रिटिश हुकूमत की तर्ज पर उस पत्रकार को तुरन्त हवालात में डलवा दिया । काफी देर बाद साथी पत्रकारों के काफी मान मनौवल के बाद तानाशाह थाना प्रभारी नें पत्रकार को हवालात से बाहर निकाला एवं अन्य लोगों के मोबाईल वापस देकर चेतावनी देते हुये थाने से बाहर करा दिया ।
उक्त तानाशाही करनें वाले थाना प्रभारी के भ्रष्टाचारों की जांच करायी जाय तो उसकी फेहरिस्त काफी लम्बी होती जाएगी । पत्रकारों को थाने में देख बिदकने वाला दरोगा अपने चंद दलालों को लेकर दिन भर वसूली में लिप्त रहता है । गत माह थानाक्षेत्र के गोकुलपुर गाँव से एक मोबाइल चोर को पकड़ कर उक्त थाना प्रभारी नें उसके द्वारा चोरी की मोबाईल के खरीददार बताए गए दर्जनों लोगों को थाने पढ़ बुलवाया और सभई को बन्द कर देनें की धमकी देकर लम्बी वसूली की गयी । और तो और खरीददार कों बंद करनें को कौन कहे लम्बी डील कर शातिर चोर को भी थाने से भगा दिया गया । वहीं हरहुआ क्षेत्र के लुच्चेपुर में जमीन के विवाद में लम्बा पैसा लेकर बीसों साल से रह रहे एक गरीब का आशियाना उजाड़ कर एक कालोनाइजर के आदमियों को कब्जा करवा दिया गया ।