May 29, 2022

मतदाता जागरूकता अभियान’ विषयक एक दिवसीय ऑनलाइन संगोष्ठी सम्पन्न-

Spread the love

*’मतदाता जागरूकता अभियान’ विषयक एक दिवसीय ऑनलाइन संगोष्ठी सम्पन्न*

 

वाराणसी। राष्ट्रीय सेवा योजना, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ द्वारा बुधवार को ‘ध्वनि प्रदूषण बचाव एवं मतदाता जागरूकता अभियान’ विषय पर एक दिवसीय ऑनलाइन संगोष्ठी का आयोजन किया गया।कुलपति प्रोफेसर आनंद कुमार त्यागी ने इस अवसर पर कहा कि हमें वायु प्रदूषण के प्रति अपने जीवन में सजग रहने की जरूरत है और मतदान के प्रति जागरूक रहते हुए अधिक से अधिक लोगों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है।

विश्वविद्यालय की कुलसचिव डॉ सुनीता पांडेय ने कहा कि हमें प्रदूषण के प्रति जागरूकता अपने परिवार और मोहल्ले से शुरू करनी चाहिए। भारत के युवाओं में वोटर आईडी बनवाने और उसका अधिक से अधिक प्रचार करने के लिए हमें प्रतिबद्ध होने की जरूरत है। हमारे देश का युवा किसी भी सरकार की दिशा और दशा बदलने में सक्षम है, इसलिए उसे अपने मतदान के प्रति अधिक से अधिक सजग रहना चाहिए। संगोष्ठी में राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॉक्टर के के सिंह ने अपने वक्तव्य में प्राकृतिक, मनोवैज्ञानिक, शारीरिक और नैतिक प्रदूषण से लोगों के बचाओ पर व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कि किस प्रकार से यह प्रदूषण व्यक्ति के जीवन में मानसिक, शारीरिक एवं संवेगात्मक समस्याओं को जन्म दे रहे हैं। प्रदूषण के क्षेत्र में वाराणसी में अनेक एनजीओ कार्य कर रहे हैं। हमें प्रदूषण से संबंधित समस्याओं से इन एनजीओ को अवगत कराना चाहिए। यह एनजीओ शिकायतकर्ता का नाम गुप्त रखते हुए उस प्रदूषण के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति करते हैं। उन्होंने कहा कि स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविकाओं को मतदान के प्रति जागरूक रहना चाहिए। युवा शक्ति के विचारों से सरकारें बनती हैं, यदि ये युवा मतदान में अपनी सक्रिय सहभागिता नहीं निभाएंगे तो यह राष्ट्रहित के लिए उचित नहीं होगा। इसलिए युवाओं को मतदान में चढ़बढ़ कर भागीदारी निभानी चाहिए और दिव्यांग एवं वृद्धजनों की अधिक से अधिक सहायता करनी चाहिए। संगोष्ठी के अंत में मतदाता जागरूकता की शपथ ली गई।

ऑनलाइन संगोष्ठी में मुख्यरुप से विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी डॉक्टर नवरत्न सिंह, डॉ जया आर्यन, डॉ बीके गौडर, डॉक्टर सतीश कुशवाहा, डॉक्टर सुरेखा जायसवाल व अन्य कार्यक्रम अधिकारीगणों के साथ ही साथ स्वयंसेवक एवं स्वयंसेवकों ने सक्रिय प्रतिभाग किया। संगोष्ठी का संचालन डॉक्टर मनोज कुमार त्यागी एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ अभिलाषा जायसवाल ने दिया।