July 14, 2024

भारतीय सेना, रेलवे विभाग, सिचाई विभाग आदि विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले अन्तर्राज्यीय गैंग का एक और सदस्य गिरफ्तार-

Spread the love

*स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तर प्रदेश, लखनऊ।*

 

 

 

*भारतीय सेना, रेलवे विभाग, सिचाई विभाग आदि विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले अन्तर्राज्यीय गैंग का एक और सदस्य आलोक उर्फ विजय गिरफ्तार।*

 

विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले अन्तर्राज्यीय गैंग का दिनांक 20-02-2022 को पर्दाफास करते हुये गैंग सरगना सहित कुल 03 अभियुक्तों को एस0टी0एफ0 द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इस गैंग के सरगना अजीत प्रताप सिंह उर्फ अमन सिंह का मुख्य सहयोगी आलोक उर्फ विजय कुमार को दिनांक 22-02-2022 को एस0टी0एफ0, उ0प्र0 को गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।*

 

*गिरफ्तार अभियुक्त का विवरणः-*

*———————————–*

आलोक उर्फ विजय कुमार पुत्र नरेश प्रसाद सिंह, निवासी लक्खापुर, थाना जमुई, जनपद जमुई (बिहार)

 

*बरामदगीः-*

*———–*

1- मोबाइल फोन-01अदद।

2- नगद 900/-रूपये।

 

*गिरफ्तारी का स्थान, दिनांक व समयः-*

*——————————————-*

आदर्श कॉलोनी रोड नं0-1 थाना रामकृष्णनगर जनपद पटना (बिहार) दिनांक 22-02-2022 समय रात्रि 22.00 बजे।

 

विगत कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश के वाराणसी एवं इसके आस-पास के जनपदों के साथ-साथ हैदराबाद, नई दिल्ली, कोलकता, भुवनेश्वर, लखनऊ आदि में भारतीय सेना, रेलवे विभाग, सिचाई विभाग आदि सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजों का एक अन्तर्राज्यीय गिरोह द्वारा बेरोजगार युवकों से आवेदन पत्र भरवाकर उनका फर्जी मेडिकल कराते हुये फर्जी नियुक्ति पत्र देकर ठगने की सूचना ‘मिलिट्री इन्टेलीजेन्स’ (एम0आई0) वाराणसी से प्राप्त हुई थी। इस पर अपर पुलिस महानिदेशक एस0टी0एफ0 उ0प्र0 लखनऊ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एस0टी0एफ0, उ0प्र0 लखनऊ द्वारा एस0टी0एफ0 की वाराणसी यूनिट को अभिसूचना संकलन एवं कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया था। इस क्रम में निरीक्षक श्री अनिल कुमार सिंह एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी के नेतृत्व में टीम गठित करते हुये अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी। इस दौरान पता चला कि इसी तरह के एक प्रकरण में जनपद वाराणसी के थाना सिगरा पर मु0अ0सं0 15/2021 धारा 419, 420, 467, 468, 471, 406, 504, 506 भादवि पंजीकृत है। स्थानीय पुलिस के सहयोग से धरातलीय श्रोतोे को विकसित करते हुये अभिसूचना संकलन की कार्यवाही के दौरान दिनांक 20-02-2022 को गैंग के सरगना सहित 03 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। गैंग सरगना अजीत प्रताप सिंह उर्फ अमन से पूछताछ के दौरान ज्ञात हुआ था कि इसका मुख्य सहयोगी बिहार का रहने वाला आलोक उर्फ विजय कुमार है। इसके साथ मिलकर इन लोगों ने कई लोगों के साथ नौकरी के नाम पर ठगी किया है। आलोक उर्फ विजय कुमार तभी से फरार चल रहा था। *इसके संबंध में निरीक्षक श्री अनिल कुमार सिंह के नेतृत्व में एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी की टीम द्वारा पटना में धरातलीय अभिसूचना संकलन किया जा रहा था कि विश्वस्त सूत्रों के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि आलोक उर्फ विजय कुमार आदर्श कॉलोनी रोड नं0-1 थाना रामकृष्णनगर में मौजूद है, यदि शीघ्रता की जाये तो पकड़ा जा सकता है। उक्त सूचना पर एस0टी0एफ0 टीम द्वारा उक्त स्थान पर पहुॅचकर अभियुक्त आलोक को गिरफ्तार कर लिया गया, जिससे उपरोक्त बरामदगी हुई।*

 

गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ एवं अभिसूचना संकलन से पाया गया गया कि इनका एक संगठित अन्तर्राज्यीय गिरोह है। अजीत प्रताप सिंह उर्फ अमन गैंग का सरगना है और अजीत प्रताप सिंह उर्फ अमन का यह मुख्य सहयोगी हैं। वे लोग एक योजना के तहत वर्ष 2007 से नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी करने का काम कर रहे हैं। वर्ष 2019 में वाराणसी में 08 लोगों से नौकरी दिलाने के नाम पर 41 लाख रूपये लिए थे। जिसमें बाद में थाना सिगरा पर मु0अ0सं0 15/2021 धारा 419, 420, 467, 468 471, 406, 504, 506 भादवि पंजीकृत हुआ था। इसके बाद से यह लोग वाराणसी छोड़कर भुवनेश्वर व हैदराबाद में आफिस खोलकर दक्षिण भारत के काफी अभ्यर्थियों से नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी कर रहे थे। कुछ लोगों से नौकरी के नाम पर ठगी करने के लिये आया था कि आज पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया।

उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्त के गिरफ्तारी के संबंध में थाना रामकृष्णनगर, पटना (बिहार) में आवश्यक विधिक कार्यवाही करने के उपरान्त अभियुक्त को आज दिनांक 23-02-2022 को जनपद वाराणसी के थाना सिगरा पर पंजीकृत मु0अ0सं0 15/2021 धारा 419/420/467/468/471/406/ 504/506 भादवि में दाखिल किया गया। अग्रिम विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।