May 28, 2022

ब्रह्मणत्व से सुशोभित सभी ब्राह्मणों एवं गौमाता के सम्मान में सादर समर्पित- सुशील झा

Spread the love

*🙏वसुधैव कुटुंबकम्🙏*

नमो ब्रह्मण्यदेवाय ,

गो ब्राह्मणहिताय च ।

जगत्हिताय कृष्णाय ,

गोविन्दाय नमो नमः ।।

 

*ब्रह्मणत्व से सुशोभित सभी ब्राह्मणों एवं गौमाता के सम्मान में सादर समर्पित*

🔅”ब्राह्मण” जप से पैदा हुए शक्ति का नाम है ।

🔅”ब्राह्मण” त्याग से चलते हुए भक्ति का नाम है ।

🔅”ब्राह्मण” ज्ञान के दीप को जलाने का नाम है ।

🔅”ब्राह्मण” विद्या का प्रकाश फैलाने का नाम है ।

🔅”ब्राह्मण” स्वाभिमान से जीने का नाम है ।

🔅”ब्राह्मण” सृष्टि का अनुपम, अमिट, अविरल, अंग है ।

🔅”ब्राह्मण” विकराल हलाहल पीने की कला है ।

🔅”ब्राह्मण” ज्ञान, भक्ति, त्याग, परमार्थ का प्रकाश है ।

🔅”ब्राह्मण” शक्ति, कौशल, पुरुषार्थ का आकाश है ।

🔅”ब्राह्मण” न धर्म , न जाति में बंधा हुआ इंसान है ।

🔅”ब्राह्मण” मनुष्य के रूप में साक्षात् वरदान है ।

🔅”ब्राह्मण” कंठ में शारदा लिए ज्ञान का संचारक है ।

🔅”ब्राह्मण” हाथ में शस्त्र लिए आतंक का संहारक है ।

🔅”ब्राह्मण” सिर्फ मंदिर में पूजा करता हुआ पुजारी नहीं । “ब्राह्मण” घर-घर भीख मांगता हुआ भिखारी भी नहीं ।

🔅”ब्राह्मण” गरीबी में सुदामा सा सरल है ।

🔅”ब्राह्मण” त्याग में दधिचि सा विरल है ।

🔅”ब्राह्मण” विषधरों के शहर में शंकर के समान है ।

🔅”ब्राह्मण” के हस्त में शत्रुओं के लिए परशु कीर्तिमान है ।

🔅”ब्राह्मण” सूखते रिश्तों की संवेदनाओं को सजाता है ।

🔅”ब्राह्मण” निषिद्ध गलियों में सहमे सत्य को बचाता है ।

🔅”ब्राह्मण” संकुचित विचारधाराओं से परे एक नाम है

🔅” ब्राह्मण” सबके अंतःस्थल में बसा एक अविरल राम है ।

 

*कर्म की भूमि पर किस्मत के फूल खिलते हैं ।*

*स्वार्थ नहीं,परमार्थ के लिए ब्राह्मण के घर जन्म मिलते हैं ।*

अपने सनातन पर जो भी ॠषि मुनि हुए हैं, उनका कोटि-कोटि वंदन करें कि उन्होंने आपको धरोहर के रूप में ज्ञान के साथ वो सारी चीजें दी हैं , जो मनुष्य के लिए कल्याणकारी हैं ।

 

*🙏सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय🙏*

 

सुशील झा