October 20, 2021

*बसपा ने युवा तेज-तर्रार नेता अतुल राय पर लगाया दांव,

Spread the love

*बसपा ने युवा तेज-तर्रार नेता अतुल राय पर लगाया दांव, घोसी से प्रभारी घोषित होने के साथ विरोधी खेमे में घमासान*

*वाराणसी/मऊ:* सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशियों की औपचारिक घोषणा नहीं हुई है लेकिन सोमवार को हुए घटनाक्रम के बाद भाजपा के खेम में हडकंप की स्थिति है। दरअसल बसपा ने युवा और तेज-तर्रार नेता की छवि रखने वाले अतुल राय को घोसी लोकसभा का प्रभारी बनाया है। केन्द्रीय रेल राज्य और संचार मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा को उनके गढ़ गाजीपुर में चुनौती देने वाले अतुल राय विधानसभा मामूली अंतर से हारे थे लेकिन उन्होंने कद्दावर नेता ओपी सिंह को तीसरे स्थान पर धकेल दिया था। इसके बाद उन्होंने लगातार क्षेत्र की समस्याओं को दिल्ली से लखनऊ तक बुलंद करते हुए अलग छवि बनायी। घोसी सीट पर स्वतंत्रता के बाद नौ बार भूमिहार प्रत्याशी विजयी रहा है और जातीय समीकरणों को ध्यान में रखते हुए अतुल राय को यह जिम्मेदारी सौंपी गयी है।

*जोनल इंंचार्ज ने की घोषणा*

माधव पैलेस में हुई बसपा कार्यकर्ता एवं पदाधिकारियों की बैठक में मुख्य जोन इंचार्ज हरिश्चंद्र गौतम ने बहनजी के निर्देशा नुसार अतुल राय को घोसी लोकसभा का प्रभारी बनाए जाने की घोषणा की। साथ ही बताया कि अतुल राय के नेतृत्व में लोकसभा के अंतर्गत आने वाले सभी विधानसभा के बूथों के साथ साथ संघठन को मजबूत करने का काम करना है। मौजूद कार्यकर्ताओ एवं पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए अतुल राय ने कहा कि बहन जी ने घोसी लोकसभा में संगठन को मजबूत करने की जिम्मेदारी जो सौंपी है वह आपके सबके सहयोग से मजबूत की जाएगी।

*सरकार की नाकामियों को जनता के सामने रखेंगे*

युवा नेता का कहना था कि साथ ही साथ सरकार की नाकामियों से जनता को अवगत भी कराना है। मोदी सरकार झूठ के सहारे लोगों को भ्रमित कर रही है। देश में विकास का ढिंढोरा पीटा जा रहा है, जबकि हकीकत यह है कि सरकार हर मोर्च पर विफल साबित हुई है। बसपा ही सर्वसमाज की हितैषी है इसलिए कार्यकर्ता सभी समाज को जोड़ने के लिए बसपा की नीति व रीति को समझाएं। बूथ स्तर पर संगठन को मजबूत किया जाए। यदि बूथ मजबूत होगा तो 2019 जीत सुनिश्चित करते हुए बहन जी को प्रधान मंत्री बनना है। बैठक में मुख्यजोन इंचार्ज बृजेश गौतम, जिलाध्यक्ष राजीव कुमार राजू, मुख्य जोन इंचार्ज बुझारत राजभर , मंडल को आर्डिनेटर के साथ साथ सभी विधानसभाओं के अध्यक्ष उपस्थित रहे।