January 18, 2021

पुलिस से मागि पनाह तो मिली थर्ड डिग्री की यातना* – नूर मोहम्मद खान

Spread the love

*जब पनाह मांग तो मिल गई थर्ड डिग्री की यातना*

*चरवा थाने की जल्लाद बनी पुलिस ने ब्रिटिश हुकूमत के अत्याचार को पीछे धकेलते हुए बेकसूर महिला पर बरसाई अंधाधुंध लाठियां*

*कौशाम्बी।**चरवा थाना क्षेत्र की एक महिला पर पुलिस की थर्ड डिग्री की यातना भी पनाह मांग गई है। पुलिस ने महिला को लाठियों से बेरहमी से पीटा है। चरवा थाने की जल्लाद बनी पुलिस ने ब्रिटिश हुकूमत के अत्याचार को पीछे धकेलते हुए बेकसूर महिला पर लाठियां बरसाई है। पुलिस की लाठी बरसाए जाने के मामले को दो दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस अफसरों ने जल्लाद उपनिरीक्षक पर अभी तक कार्यवाही नहीं की है। इसके पहले भाजपा नेता पर भी चरवा थाने में थर्ड डिग्री प्रयोग किया गया था। इस मामले में भी चरवा पुलिस के उपनिरीक्षक पर अभी तक कार्यवाही नहीं हुई है। पीड़ित महिला ने अपने शरीर के चोट के निशान को दिखाते हुए आरोपी उपनिरीक्षक पर कार्यवाही की मांग की है।

जानकारी के मुताबिक चरवा थाना क्षेत्र के गढ़वा उदाथु गांव की रेखा कुमारी के घर चरवा थाने के उपनिरीक्षक सिपाहियों के साथ पहुंचे और उसके मामा के बारे में जानकारी मांग रहे थे बताते हैं कि मामा ने पुलिस के खिलाफ अदालत में एक वाद दाखिल कर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। जब महिला ने कहा कि वह मामा कहा है वह नही जानती तो पुलिस वाले उस महिला को गाली गलौज करने लगे जब महिला ने पुलिस की गाली का विरोध किया तो चरवा थाने के उपनिरीक्षक जल्लाद बन गए और महिला को बेरहमी से लाठियों से पीट दिया है। पुलिस ने महिला की पिटाई में इस कदर थर्ड डिग्री इस्तेमाल किया है कि लोगों की रूह कांप गई। पुलिस की पिटाई के बाद घायल महिला के उन अंगों में भी लाठियों के निशान हैं जिन अंगों को महिलाएं समाज के सामने दिखाने में शर्म महसूस करती हैं।

एक तरफ पुलिस अधिकारी अधीनस्थों को यह पाठ पढ़ा रहे हैं कि वह आम जनता के बीच मधुर संबंध बनाएं दूसरी तरफ अधीनस्थ पुलिस जन जुल्म ज्यादती अत्याचार की सारी हदें पार कर रहे हैं और जांच के नाम पर इन जल्लाद पुलिस कर्मियों को जांच अधिकारी बचा रहे हैं। ऐसी स्थिति में योगी सरकार की आम जनता के बीच छवि क्या रह जाएगी यह गंभीर चिंतन का विषय है और महिला पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल करने वाले उपनिरीक्षक के कारनामों पर आला अधिकारियों को तत्काल कठोर निर्णय लेना होगा वरना आने वाले दिनों में जनता इसका हिसाब योगी सरकार से मांगेगी और पुलिस के जुल्म ज्यादती अत्याचार का खामियाजा योगी सरकार को भुगतना पड़ेगा।