November 27, 2021

परीक्षा से रोके जाने से नाराज होकर मंगलवार को फिर सड़क पर उतरे विद्यार्थि…

Spread the love

वाराणसी : बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के लाँ फैकल्टी के विद्यार्थियों ने कम उपस्थित के चलते परीक्षा से रोके जाने से नाराज होकर मंगलवार को फिर सड़क पर जा पहुंचे । परीक्षा में शामिल होने देने की मांग को लेकर दर्जनों की संख्या में विद्यार्थियों ने पहले सेंट्रल आँफिस पहुंच कर धरना दिया और नारेबाजी की । उसके बाद बीएचयू मुख्य द्वार पर पहुंच गए और धरना शुरू कर दिया । विद्यार्थियों ने बताया कि जब तक उन्हें परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जायेगी तब तक वे अपना धरना जारी रखेंगे ।
बीएचयू सिंह द्वार पर धरने पर बैठ जाने से आवागमन ठपहो गया । थोड़ी ही देर में जाम की स्थिति पैदा हो गयी । पर स्टूडेंट्स बीएचयू प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए वहीं बैठे रहे । थोड़ी ही देर में वहां काफी फोर्स पहुंच गई । प्राँक्टोरियल बोर्ड के लोग भी वहां पहुंच गये और उन्होंने विद्यार्थियों को समझाने का प्रयास किया पर वे किसी भी तरह से वहां से हटने को तैयार नहीं हुए । विद्यार्थियों का धरना देर रात तक जारी रहा ।
आपको बतादे की लाँ फैकल्टी में करीब 1500 छात्र-छात्राएं अध्ययन करते है । इनमें से करीब चार दर्जध स्टूडेंट्स की उपस्थिति बहुत कम थी । जिसके चलते उन्हें परीक्षा में बैठने से रोक दिया गया है । इससे आक्रोशित होकर उन्होंने तीन दिन पहले भी बीएचयू मुख्यद्वार पर धरना दिया था पर बाद में बीएचयू प्रशासन से मिले आश्वासन के बाद उन्होंने धरना खत्म कर दिया । छात्रों का कहना है कि उन्हें मेडिकल देने के लिए कहां गया था । उन्होंने मेडिकल दिया । इसके बावजूद कुछ छात्रों का मेडिकल फारवर्ड नहीं किया गया । बीएचयू प्रशासन ने उन्हें छलने का प्रयास किया है ।
बीएचयू परिसर में शान्ति व्यवस्था भंग करने के आरोप में आईआईटी , बीएचयू की स्टैंडिंग डिसिप्लीनरी कमेटी ने दो छात्राओं को नोटिस जारी
किया है । यह नोटिस पिछले साल 21-23 सिंतबर को हुए बवाल की बरसी को लेकर इस वर्ष 23 सिंतबर को किए गए आंदोलन के बाबत जारी किया गया है । नोटिस को लेकर छात्राओं में आक्रोश है , उन्होंने ने आईआईटी एडमिनिस्ट्रेशन को चेतावनी दी है कि अगर नोटिस वापस नहीं लिया गया तो वे आंदोलन के लिए बाध्य होंगी । आईआईटी सिरेमिक इंजिनियरिंग की वंदना कुमारी व मेकेनिकल इंजिनियरिंग की कुमारी इप्शिता का कहना है कि पिछले साल हुई घटना की बरसी पर महिल महाविद्यालय के बाहर प्रदर्शन किया जा रहा था । इसको लेकर बीएचयू ने आईआईटी प्रशासन को पत्र लिखा था । इसके बाद 24 नवंबर को आईआईटी की स्टैंडिंग डिसिप्लीनरी कमेटी से उनको नोटिस जारी कर 29 नवंबर को पूछताछ के लिए बुलाया गया है ।