January 21, 2021

निविदा मूल्यांकन समिति की बैठक संपन्न हुई- अजय मिश्रा

Spread the love

प्रेस नोट

 

यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं अपर मुख्य सचिव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग की अध्यक्षता में पी0पी0पी0 मोड के अन्तर्गत डी0बी0एफ0ओ0टी0 के आधार पर गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना का विकास किए जाने हेतु, 11 कम्पनियों के रुचि की अभिव्यक्ति अभिलेख (EOI) प्रस्ताव प्राप्त हुए,

 

निविदा मूल्यांकन समिति की बैठक संपन्न हुई,

 

गंगा एक्सप्रेसवे निर्माण के लिए देश ही नहीं विदेशी कम्पनियां भी दिखा रही रुचि,

 

जून, 2021 में कराया जाना प्रस्तावित है गंगा एक्सप्रेसवे का शिलान्यास,

 

गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना की कुल अनुमानित लागत रू0 36410 करोड़ होगी ।

 

-अवनीश कुमार अवस्थी

दिनांक 08.01.2021 को अपर मुख्य सचिव, गृह एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी, यूपीडा और अपर मुख्य सचिव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग की अध्यक्षता में गंगा एक्सप्रेसवे के निर्माण हेतु निविदा मूल्यांकन समिति की ई0ओ0आई0 कान्फ्रेंस लोक भवन में आयोजित की गई। इस बैठक में मेरठ से प्रयागराज तक प्रस्तावित गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना के निर्माण से संबंधित गंगा एक्सप्रेसवे के पी0पी0पी0 मोड के अन्तर्गत डिजाइन, बिड, फाइनेन्स, आॅपरेट, मेन्टेन एवं ट्रांसफर के आधार पर गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना का विकास किये जाने हेतु इच्छुक 11 देशी-विदेशी कम्पनियों, जिसमें 1. M/s Welspun Enterprises Ltd. 2. M/s IJM Corporation Berhad (Malaysia) 3. M/s Adani Road Transport Ltd. 4. M/s Montecarlo Ltd. 5. M/s Gawar construction Ltd. 6. M/s PNC Infratech Ltd. 7. M/s Prakash Asphalting and Toll Highways India Ltd. 8. M/s Oriental Structural Engineers Pvt. Ltd. 9. M/s Ashoka Buildcon Ltd. 10. M/s Ircon International Ltd. 11. M/s Intopia Construction Pvt. Ltd. (South Korea) शामिल है, उनके प्रस्ताव प्राप्त हुए। बैठक में इच्छुक कम्पनियों से गंगा एक्सप्रेसवे के निर्माण हेतु ई-टेण्डर पोर्टल पर प्रस्तुत ई0ओ0आई0 प्रस्तावों को डाउनलोड किया गया।

उल्लेखनीय है कि गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना उत्तर प्रदेश सरकार की महत्वकांक्षी परियोजना है और इसके निर्माण कार्य के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। इस एक्सप्रेसवे की लम्बाई 594 कि0मी0 होगी और यह प्रदेश का सबसे लम्बा एक्सप्रेसवे होगा, जो कि जनपद मेरठ से शुरु होकर हापुड़, बुलन्दशहर, अमरोहा, सम्भल, बंदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ पर होते हुए प्रयागराज पर समाप्त होगा। इसके निर्माण में देश ही नहीं विदेश की भी बड़ी सड़क निर्माण कम्पनियों द्वारा रुचि दिखाई जा रही है।

 

मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने निविदाकर्ताओं के समक्ष प्रसन्नता व्यक्त करते हुुए यह भरोसा दिलाया कि, यूपीडा द्वारा गंगा एक्सप्रेसवे के निर्माण के शुरुआती दौर की प्रक्रियाओं को शीघ्र पूरा करके एक्सप्रेसवे से संबंधित भूमि अधिग्रहण का कार्य शुरु करने की दिशा में और तीव्रता से कार्य किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि गंगा एक्सप्रेसवे के लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य इसी माह, जनवरी में शुरु हो चुका है। गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना 12 जिलों की 30 तहसीलों से होकर गुजर रहा है।

गंगा एक्सप्रेसवे की इस बैठक में अपर मुख्य सचिव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग, श्री आलोक कुमार, अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी, श्री श्रीशचन्द्र वर्मा सहित यूपीडा के सभी आला अधिकारी भी मौजूद थे।