May 22, 2022

नहर खुदाई और सफाई फिर साबित हुई छलावा-

Spread the love

*नहर खुदाई और सफाई फिर साबित हुई छलावा*

 

*नहर की खुदाई के नाम पर करोड़ों की रकम हड़प करने वाले अधिकारियों और ठेकेदारों के कारनामों पर जांच करा कर कार्यवाही की मांग*

 

*कौशांबी* नहरों में टेल तक पानी पहुंचे इसी मकसद से सरकार प्रत्येक वर्ष नहर की सफाई और खुदाई के नाम पर करोड़ों का बजट अवमुक्त करती है नहर विभाग के अधिकारी और ठेकेदारों की सांठगांठ से नहर की सफाई और खुदाई का खेल बीते दो दशक से फर्जी तरीके से बेखौफ चल रहा है विभागीय अधिकारी से लेकर आला अधिकारी भी मौन है नहर 1सफाई खुदाई के नाम पर करोड़ों का बजट डकारे जाने के मामले में कई बार किसानों ने आवाज बुलंद की लेकिन नहर खुदाई और सफाई के नाम पर फर्जीवाड़े के खेल पर रोक नहीं लगी है इस वर्ष भी नहर की खुदाई और सफाई के नाम पर फर्जीवाड़ा कर सरकार के खजाने से करोड़ों की रकम अधिकारियों ने ठेकेदारों को अवमुक्त कर दिया है लेकिन मौके पर नहर की खुदाई और सफाई नहीं हो सकी है किसानों ने बताया कि मुंगरी ताल से टिकरी पुलिस लाइन तक जाने वाली नहर की सफाई खुदाई के नाम पर इस वर्ष बड़े बजट निकाले गए हैं जबकि जहां जहां पुलिया है वहां पर केवल दिखावा के लिए नहर की सफाई कराई गई है किसानों ने बताया कि 30 किलोमीटर लंबी इस नहर में पुलिया को छोड़कर कही भी खुदाई और सफाई नहीं हो सकी है

 

नहर की खुदाई और सफाई ना होने से पानी छोड़ने के बाद नहर उफान मारती है जिससे टेल तक नहर का पानी नहीं पहुंच पाता है और तमाम किसानों के खेत सिंचाई के बिना सूख जाते हैं दूसरी तरफ नहरों की सफाई खुदाई न होने से नहर का पानी उफान मारता है और किसानों के खेत में पानी भर जाता है जिससे किसानों की फसलें जल में डूब जाती है जिसका खामियाजा किसानों को अपनी मेहनत की कमाई बर्बाद होते देख कर किसानों को चुकानी पड़ती है बीते दो दशक के नहर सफाई के नाम पर विभाग में चल रहे इस खेल पर सत्ता परिवर्तन के बाद भी रोक नहीं लग सकी है जिससे अधिकारियों की सत्ता में पकड़ का अंदाजा लगाया जा सकता है जिले के नेताओं ने योगी सरकार का ध्यान आकृष्ट कराते हुए नहर की खुदाई के नाम पर करोड़ों की रकम हड़प करने वाले अधिकारियों और ठेकेदारों के कारनामों पर जांच करा कर कार्यवाही की मांग की है