January 27, 2021

नहरों की सफाई में मानक ताक पर रखकर मनमानी तरीके से करा रहे हैं सफाई

Spread the love

अमेठी तिलोई प्रतापगढ़ सहित आने वाली नहरों की सफाई के नाम पर बंदरबांट

अमेठी

जिले की तीन सौ अधिक नहर की सिल्ट सफाई के नाम पर कमीशन बाजी के चक्कर में नहरों की सफाई ठीक ढंग से नहीं हो पाई है प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक नारा दिया है सबका साथ सबका विकास लेकिन विकास के नाम पर अमेठी में लूट मची हुई है नहरों की सफाई मात्र कोरम पूरा करके पैसा निकाल लिया जाता है 41 खंड लगभग सवा चार करोड़ की धनराशि दी गई है कार्यदाई संस्थाओं का भुगतान आंख मूंद के कर दिया गया है जिले मे हैदर गढ़ सुल्तानपुर लखनऊ सहित 41 खंड आदि डिवीजन की नहरे है जिनकी नहरे लगभग 320 है इनकी इनकी लगभग लंबाई 1430 किमी है जिसमें अमेठी जिले की खंड 41 नहर विभाग की कुल 181 नहरे है लंबाई लगभग 1229 किमी है किसानों की टेल तक पानी पहुंचाने के लिए हर वर्ष नहरों की सिल्ट सफाई के नाम पर बंदरबांट होती है इस पर प्रदेश सरकार करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाते हैं लेकिन इसके बावजूद किसानों के लिए पानी खेत तक नहीं पहुंच पाता है इस बार डिवीजन को करोड़ों रुपए यह धारा जारी की गई है यही नहीं किसानों की सुविधा के नहरो की अच्छी सफाई हो ऐसा होता नहीं दिख रहा है जबकि जनपद प्रतापगढ़ के कैबिनेट मंत्री सिंचाई मंत्री भी हैं उनको नहरों की सफाई पर ध्यान देकर कार्रवाई करनी चाहिए ऐसे गैर जिम्मेदार अधिकारियों कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए कई ठेकेदारों ने नाम ना छापने के शर्त पर बताया कि कमीशन अधिक है इसलिए सफाई कितनी अच्छी होगी इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि सिंचाई विभाग कितना अमल कर रहा है अवर अभियंता सहायक अभियंता अधिशासी अभियंता अक्सर ऑफिस में नहीं रहते हैं जब पूछा जाता है तो बताते हैं कि मैं तोनहरो साइड देखने आया हूं जनता फरियाद लेकर आती है और वापस चली जाती है यही हाल है सिंचाई विभाग का जिलाधिकारी को संज्ञान लेना चाहिए