May 18, 2022

नकली रेमडिसिविर, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट आदि दवायें बनाकर बेचने वाले अन्तप्र्रान्तीय गैंग का पर्दाफाश-

Spread the love

नकली रेमडिसिविर, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट आदि दवायें बनाकर बेचने वाले अन्तप्र्रान्तीय गैंग का पर्दाफाश, सरगना सहित 05 सदस्य गिरफ्तार, भारी मात्रा में नकली रेमडिसिविर, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट सहित पैकिंग मशीन, प्रिन्ट हुआ रैपर आदि (अनुमानित मूल्य लगभग 04 करोड़ रूपये) बरामद

—————————————–

दिनाक-02-02-2022 को एस0टी0एफ0, उ0प्र0 को भारी मात्रा में नकली रेमडिसिविर, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट और इसे बनाने का उपकरण (अनुमानित मूल्य लगभग 04 करोड़ रूपये) बरामद करते हुये अन्तप्र्रान्तीय गिरोह का पर्दाफाश करते हुये सरगना सहित गिरोह के 05 सदस्यों को गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरणः-

 

1- राकेश थावानी पुत्र स्व0 हरिकिशन थावानी निवासी हाल पता-फ्लैट नं0 31, धनुश्री काॅम्पलेक्स सिद्धगिरी बाग, थाना लक्सा मूल निवास डी-47/157 रामापुरा थाना लक्सा, जनपद वाराणसी। (सरगना)

2- लक्ष्य जावा पुत्र रमेश जावा निवासी इ-7/4 मालवीय नगर, थाना मालवीय नगर नई दिल्ली

3- संदीप शर्मा उर्फ मक्कू पुत्र सुरेश शर्मा निवासी सीके-1/13 पटनी टोला चैक, थाना चैक, जनपद वाराणसी।

4- शमशेर सिंह पुत्र गोपाल निवासी नागपुर मोतिअरा, थाना रसड़ा, जनपद बलिया।

5- अरूणेश विश्वकर्मा पुत्र मदन विश्वकर्मा निवासी- डी 65/338 बौलिया लहरतारा, थाना मण्डुवाडीह, जनपद वाराणसी

बरामदगीः

1-नकली रैपिड कोविड टेस्ट किट-10800 अदद।

2-नकली कोविड वैक्सीन-1600 अदद।

3-नकली रेमिडिसिविर इंजेक्शन-1550 अदद।

4-सिलिंग मशीन-04 अदद।

5-रैपर आदि पैकेजिंग मटेरियल्स भारी मात्रा में।

6-खाली शीशी केमिकल भरा हुआ-6000 अदद।

7-खाली शीशी-02 कार्टून।

8-मोबाइल फोन-06 अदद।

9-एक्सयूवी-500 कार-01 अदद।

10-नगद 4100/-रूपये

11-संदीप शर्मा की कूट रचित सिक्किम विश्वविद्यालय की मार्कशीट।

 

गिरफ्तारी/बरामदगी का स्थान/दिनांक

दिनांक 22-02-2022 जटारानी सिंह का मकान, रोहित नगर नरिया, थाना लंका जनपद वाराणसी।

विगत काफी समय से सूचना प्राप्त हो रही थी कि कोविड से संबंधित नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट आदि अन्तप्र्रान्तीय गिरोहों द्वारा स्वयं तैयार कर देश के विभिन्न राज्यों में बेचा जा रहा है। इस संबंध में एस0टी0एफ0 की विभिन्न इकाइयों/टीमों को अभिसूचना संकलन कर आवश्यक कार्यवाही हेतु निर्देश दिये गये थे। उक्त निर्देश के क्रम में निरीक्षक श्री राघवेन्द्र मिश्रा के नेतृत्व में एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही की जा रही थी।

अभिसूचना संकलन के दौरान ज्ञात हुआ कि जनपद वाराणसी के थाना लंका क्षेत्रान्तर्गत जटारानी सिंह के रोहित नगर नरिया स्थित मकान में नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट आदि तैयार कर बेचने वाला गिरोह मौजूद है। यदि शीघ्रता की जाये तो पकड़ा जा सकता है। इस सूचना पर विश्वास कर उक्त टीम द्वारा स्थानीय स्वास्थ्य विभाग से सम्पर्क किया गया तथा श्री के0जी0 गुप्ता सहायक आयुक्त औषधि, वाराणसी मण्डल व उनकी टीम को साथ लेकर मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर पहॅुचकर घेराबन्दी की गयी तो पाया गया कि जटारानी सिंह के मकान में भारी मात्रा में नकली निर्मित एवं अर्द्धनिर्मित रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट और इससे बनाने का उपकरण/नकली रैपर/शीशी/किट आदि मौजूद है और गिरोह द्वारा नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट आदि तैयार किया जा रहा है। मौके पर मौजूद गिरोह के उक्त 05 अभियुक्तों की गिरफ्तारी करते हुये उक्त बरामदगी की गयी।

उक्त गिरफ्तार अभियुक्तगण एवं सरगना राकेश थावानी से विस्तृत पूछताछ किये जाने पर बताया गया कि राकेश थावानी की दशाश्वमेध वाराणसी में जूता चप्पल की दुकान है और वह किराये के मकान में रहता है। वर्ष 2018 में नोटबन्दी के दौरान नोटों को अवैध तरीके से बदलने का काम किया था, जिसमें वह जेल चला गया था। जमानत पर छूट कर आने के बाद वह जूता चप्पल की दुकान करने लगा। वर्ष 2020 में कोरोना के दौरान मास्क आदि की भारी कमी हो गयी थी, तब इसने मास्क, फेश-शील्ड आदि बेचने-खरीदने का काम शुरू कर दिया। इसी दौरान राहुल जायसवाल निवासी कबीरचैरा थाना कोतवाली जनपद वाराणसी से सम्पर्क हुआ। इसने बताया कि कोरोना में कोविड टेस्टिंग किट आदि की बहुत मांग है, इसमें काफी पैसा है। इसके बाद से हमलोग इसका क्रय/विक्रय करने लगे। इसी दौरान लक्ष्य जावा ने हमलोगों से सम्पर्क किया और दिल्ली निवासी गुरजीत से मुलाकात करवायी। इसके बाद से हमलोगों ने मिलकर नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट तैयार कर बेचने की योजना बनायी। इस योजना के तहत अरूणेश विश्वकर्मा ने थाना लंका क्षेत्रान्तर्गत रोहितनगर नरिया में एक किराये का मकान लिया और यह काम शुरू कर दिये। हमलोग दिल्ली से पैकिंग मशीन, इंजेक्शन तैयार करने के लिये शीशी आदि मंगवाते हैं। संदीप शर्मा उर्फ मक्कू जो कम्प्यूटर में एम0सी0ए0 किया हुआ है और ग्राफिक का भी काम जानता है, यह रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन एवं रैपिड कोविड टेस्ट किट का रैपर डिजाइन करता है, जिसे हमलोगों ने अस्सीघाट स्थित विद्या प्रिटिंग प्रेस में छपवाते हैं। इसके बाद हमलोग रेमडिसिविर इंजेक्शन में तैयार करने के लिये खाली शीशी में ग्लूकाॅन-डी पाॅवडर डालकर पैक कर देते हैं और उस पर रेमडिसिविर इंजेक्शन का रैपर लगा देते हैं। इसकी एक शीशी तैयार करने में लगभग 100/- रूपये का खर्च आता है, जिसे 3000/-रूपये में हमलोग बेचते हैं। इसी तरह खाली शीशी में डिस्टिल वाटर भरकर उसपर कोविड वैक्सीन का रैपर लगा देते हैं, जिसकी 01 शीशी तैयार करने में लगभग 25/-रूपया खर्च आता है और इसे हमलोग 300/-रूपये में बेचते हैं। कोविड टेस्ट किट तैयार करने के लिये हमलोग दिल्ली से प्रेग्नेन्सी टेस्ट किट मंगाते हैं और इसका रैपर हटाकर उसपर रैपिड कोविड टेस्ट किट का तैयार किया हुआ रैपर लगा देते हैं जिसे तैयार करने में लगभग 40/-रूपये का खर्च आता है, इसे हमलोग 500/-रूपये में बेचते हैं। इंजेक्शन, वैक्सीन और कोविड किट को तैयार करने का काम राकेश थावानी, शमशेर सिंह एवं संदीप शर्मा उर्फ मक्कू का था और इसे देश के विभिन्न राज्यों में बेचने का काम दिल्ली निवासी लक्ष्य जावा, विजय कुमार, यश कुमार आदि का है। लक्ष्य जावा ने पूछतांछ में बताया कि वाराणसी में तैयार इस नकली इंजेक्शन, वैक्सीन एवं किट को बेचने का काम उसके साथ दिल्ली के ही रहने वाले अरूण शर्मा, अरूण पाटनी, मानसी, रणवीरव, गुरजीत, गुरबाज आदि मिलकर देश के विभिन्न राज्यों में बेचते हैं। इस प्रकार भारी मात्रा में नकली रेमडिसिविर इंजेक्शन, कोविड वैक्सीन, कोविड टेस्ट किट तैयार कर बेचा गया, जिससे करोडो रूपये का मुनाफा हुआ है। आज फिर हमलोग इसे तैयार कर बेचने की फिराक में थे, कि पुलिस द्वारा आज गिरफ्तार कर लिया गया।

उक्त सन्दर्भ में गिरफ्तार अभियुक्तगण को थाना लंका जनपद वाराणसी में दाखिल किये जाने एवं अभियोग पंजीकृत किये जाने की कार्यवाही की जा रही है। अग्रिम विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जायेगी।