July 12, 2024

डीजी विजिलेंस एसएन सावत पहुंचे आजमगढ़ बिजलीं थाने-

Spread the love

*डीजी विजिलेंस एसएन सावत पहुंचे आजमगढ़ बिजलीं थाने*

 

*रिकार्ड और विभाग द्वारा की गई कार्रवाई की हुई जांच*

 

*हमारा प्रयास उपभोक्ताओं को मिले सुनियोजित ढंग से बिजली-एसएन सावत*

 

 

आजमगढ़। आज उ0प्र0 पावर कारपोरेशन के डीजी एसएन सावत द्वारा विद्युत चोरी निरोधक पुलिस थाना की जांच की गई। इस दौरान थाना प्रभारी विनोद कुमार यादव अपने सहकर्मियों के साथ मौजूद रहें। डीजी एसएन सावत ने विजिलेंस विभाग द्वारा की गई कार्रवाईयों एवं थाना के रिकार्डों की जांच की, जिसमें उन्हें सब कुछ सही मिला। इस दौरान मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक डिस्काम वाराणसी राघवेन्द्र कुमार मिश्र, क्षेत्राधिकारी प्रभारी ईश्वर चन्द प्रधान, विजिलेंस प्रभारी राकेश सिंह यादव, जेई मनोज कुमार सिंह, रामकेवल भारती, अशोक सिंह, राजित राम यादव सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

 

इस दौरान मीडिया से मुखातिब होते हुए उ0प्र0 पावर कारपोरेशन के डीजी एसएन सावत ने बताया कि विजिलेंस विभाग का इस पर बात विशेष जोर रहता है कि बड़ी विद्युत चोरियां जो सुनियोजित ढंग से की जाती हैं उनके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जा सके, जिससे हमारे उपभोक्ताओं को सुनियोजित ढंग से अधिक से अधिक बिजली मिल सके। हमारा लक्ष्य आम आदमी या छोटा दुकानदार नहीं होता है लेकिन कानून तोड़ने का अधिकार किसी को नहीं है।

 

उन्होंने बताया कि आजमगढ़ में इस वर्ष कुल 2100 मुकदमें दर्ज हो चुके हैं। पूरे उत्तर प्रदेश में एक लाख 70 हजार विद्युत चोरी के मुकदमें दर्ज किये जा चुके हैं। इसमें हमारा प्रयास यही रहता है कि जो हमारे उपभोक्ता हैं वे आयें अपना समन शुल्क और अपना बकाया जमा कर एनओसी प्राप्त कर लें। उन्होंने बताया कि हमारा यह प्रयास रहता है कि विद्युत विभाग के इंजीनियर के साथ मिलकर चिन्हीकरण करें कि कहां-कहां पर फीडर और ट्रांसफार्मर मर्ज हाई और कहां-कहां पर लास है। जहां ज्यादा नुकसान हो रहा है उस क्षेत्र पर फोकस करते हैं ताकि वहां नुकसान कम हो सके और उस क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति में सुविधाजनक तरीके से हो। कृषि कनेक्शन को लेकर उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं के आधार पर कुछ ऐसे कनेक्शन हैं जिनके फिक्स चार्ज होते हैं उपभोक्ता मीटर रीडिंग को देखकर परेशान होते हैं, हमारा यह पूरा प्रयास है कि उनकी इन भ्रांतियों को दूर किया जाय। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा जारी नियमों के आधार पर विभाग अपनी कार्रवाई कर रहा है अगर कहीं कुछ त्रुटियां होती हैं तो उसको अमल में लाकर सही किया जायेगा।

 

??