October 23, 2021

*जाम से बेजार गोलघर कचहरी मार्ग*

Spread the love

*जाम से बेजार गोलघर कचहरी मार्ग*

*लबे सड़क पार्किंग, सुगम यातायात में बन रही बाधक*

*अधिकारी जान बूझकर बने हैं मूकदर्शक*

कृष्ण मोहन उर्फ बग्गा

*****************

वाराणसी। प्रवासी भारतीय सम्मेलन को देखते हुए प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन पीएम के संसदीय क्षेत्र बनारस को नया कलेवर देने में जुटा है। वहीं शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त किये जाने को हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। बावजूद इसके पार्किंग की समुचित व्यवस्था नहीं होने से सड़क की पटरियों व बीच सड़क खड़े दो व चार पहिया वाहन सुगम यातायात की व्यवस्था को पलीता लगा रहे हैं। ऐसा ही एक नजारा गोलघर कचहरी का है। जहां विद्वानों का जमघट तो लगता है लेकिन पार्किंग के नाम पर सबकी विद्वान्तता को सांप सूंघ जाता है।
धर्म व संस्कृति की राजधानी काशी में स्वार्थ की पराकाष्ठा जाम की समस्या को जटिल बना रहे हैं। वहीं सड़क के किनारे बने चिकित्सालय, होटल, मैरेज लॉन, रेस्टोरेंट, दुकानदार द्वारा दुकानों के सामने फुटपाथ के साथ ही सड़कों पर कब्जा जाम में खाझ का कारण बन रहे हैं। जिसके लिए विकास प्राधिकरण, नगर निगम व जनपद की पुलिस व जिला प्रशासन के साथ ही स्थानीय नेताओं की दखलनदाजी मूल कारण हैं। स्थानीय पुलिस व नगर निगम के लोग सब जानने के बाद भी मूकदर्शक बने रहते हैं। जिसका खामियाजा नगरवासियों के साथ विदेशी पर्यटकों को भी भुगतना पड़ता है। जबकि कुछ दिनों बाद ही जनपद में प्रवासी भारतीय सम्मेलन के साथ ही कुम्भ स्नान का पलट प्रवाह भी जनपद में होना है। कचहरी चौराहे से लेकर सर्किट हाऊस व कचहरी से बनारस क्लब के पास सड़क के दोनों किनारों पर खड़े बेतरतीब वाहन, साइकिल स्टैंड कर्मियों द्वारा सड़क को पूरी तरह से स्टैंड के रूप में तब्दील हो गई है। स्थिति यह है कि इस व्यस्ततम मार्ग पर पैदल चलना भी दुश्वार हो गया है। जबकि इसी मार्ग पर आयुक्त कार्यालय, विकास भवन जैसे कार्यालय के साथ ही सर्किट हाऊस भी है। जहां आये दिन वीआईपी आगमन बना रहता है। बावजूद इसके सक्षम अधिकारियों को उक्त अतिक्रमण दिखाई ही नहीं देता है। जबकि कचहरी में आतंकवादी घटना भी घटित हो चुकी है। अब प्रश्न ये उठता है कि क्या इसी तैयारी के भरोसे क्या प्रवासी भारतीय सम्मेलन का यशगान किये जाने की तैयारी की जा रही है।

www.mvdindianews.in