October 29, 2020

जमीन के कब्जे को लेकर दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष, इसमें एक बुजुर्ग की हुई मौत- दीपक सिंह

Spread the love

वाराणसी के चोलापुर थाना क्षेत्र के हाजीपुर गांव में मंगलवार सुबह 6 बजे ग्राम सभा की जमीन के कब्जे को लेकर दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष हो गया। इसमें एक बुजुर्ग की मौत हुई, तो वहीं आधा दर्जन लोग घायल हुए हैं।

घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने लाश को कब्जे में लिया है। गांव में तनाव पूर्ण माहौल के चलते पुलिस बल को तैनात किया गया है।

हाजीपुर गांव में जमीन विवाद को लेकर कई दिनों से संघर्ष चल रहा था। इस मामले में कुछ लोगों को पुलिस ने पाबंद भी किया था, लेकिन विवाद लगातार चल रहा था। इसमें बाहरी लोगों के हस्तक्षेप करने का भी मामला प्रकाश में आया है।

 

इसी जमीन से कब्जा हटाने के लिए राजस्व की टीम हाजीपुर गांव पहुंची थी, जहां पर कब्जेदारों द्वारा टीम के लोगों को भगा दिया था। इस मामले में राजस्व विभाग और पुलिस के द्वारा किसी भी प्रकार की वैधानिक कार्यवाही नहीं की गई। आज मामला खूनी संघर्ष तक पहुंच गया, जिसमें एक की मौत हुई है।

 

इसके पहले इसी थाना क्षेत्र के पूरेधूसाह गांव में जमीनी विवाद में एक अंगुल भूमि के लिए एक युवक की मौत हुई थी। जिसमें दो मुलजिम अभी गिरफ्तार नहीं किए जा सके हैं।

 

हाजीपुर गांव के प्यारे लाल यादव और ताला गांव की उमा नाथ यादव के बीच जमीन का विवाद चल रहा है। बताया जा रहा है कि गांव के जल देवराम के द्वारा अपने आराजी का कुछ अंश प्यारे लाल यादव को सट्टा कर दिया गया था, जिस सट्टे को कब्जे के लिए प्यारेलाल के पक्ष के लोग लगातार प्रयास में थे। उसी से सटा कुछ गांव सभा की नवीन परती मौके पर मौजूद है।

 

जिस पर मकान निर्मित कर लिए गए हैं। उसी हिस्सेदारी को लेकर दो पक्षों के बीच विवाद चल रहा था। इस मामले में चोलापुर पुलिस से लेकर राजस्व अधिकारियों तक अपनी गुहार दोनों पक्षों के द्वारा लगाई गई थी। बाद में पता चला कि जिस जमीन के लिए दो पक्ष लड़ रहे हैं, वह गांव सभा की नवीन परती हैं।

 

पुलिस बल के साथ राजस्व टीम गांव में पहुंची थी, जहां पर जमीन को खाली कराने का प्रयास किया गया। मौके पर प्रधान की मौजूदगी भी रही। टीम के सदस्यों ने मौके पर पहुंचने के बाद कब्जेदारों ने जमकर हंगामा और विवाद किया।

 

इस दौरान नायब तहसीलदार, लेखपाल, कानूनगो पुलिस वापस लौट गई थी। इस मामले में प्रधान के द्वारा कुछ लोगों के नाम से चोलापुर थाने में तहरीर भी दी गई थी, लेकिन पुलिस ने ठोस कार्रवाई नहीं की। मामला इतना तूल पकड़ता जा रहा था कि कई दफा लोगों के बीच नोकझोंक-मारपीट होती रही।

 

मंगलवार की सुबह दो पक्षों के बीच एक परचून की दुकान पर पहुंच कर मारपीट की गई। जिसमें एक पक्ष के गुलाब यादव(42) गीत(40) उर्मिला यादव(48) मनीष यादव(18) गंभीर रूप से घायल हुए। दूसरे पक्ष के उमा नाथ यादव के समर्थन में दर्जनों लोग मारपीट में शामिल हुए थे, जिसमें विवाद के बाद उमानाथ के तरफ के लोग मारपीट कर भाग गए।

 

वहीं मौके पर पड़ोस में रहने वाले राम दुलार(60) घायल हुए। जिन्हें चोलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। उन्हें चिकित्सकों के द्वारा मृत घोषित कर दिया गया।