May 22, 2022

गोरखनाथ मंदिर पर लोन वुल्फ आतंकी हमला हुआ- मनोज गुप्ता

Spread the love

*गोरखनाथ मंदिर पर लोन वुल्फ आतंकी हमला हुआ … सैकड़ों श्रद्धालुओं को मारने की थी साजिश*

 

_भारत के पहले लोन वुल्फ अटैक के बारे में भी जानिए जब बाजार में स्कूटर पर तलवारें लेकर हिंदुओं की गर्दनें काटने निकलने वाले थे जिहादी !_

 

-हर भारतीय को ये पता होना चाहिए कि आखिर लोन वुल्फ अटैक क्या होता है ? सितंबर 2014 में इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन के कम्युनिकेशन विंग ने एक फरमान जारी किया था… इसमें पूरी दुनिया के मुसलमानों से एक अपील की गई थी… इसी अपील को लोन वुल्फ अटैक की बुनियाद कहा जाता है…

 

Quote of ISIS (Hindi Translation)

 

“किसी से सलाह मत मांगो और किसी के फैसले का इंतजार मत करो । काफिर को मार डालो चाहे वह नागरिक हो या फिर कोई सैनिक । क्योंकि ये दोनों काफिर हैं । ये दोनों ही मुसलमानों के खिलाफ युद्ध छेड़ने वाले हैं । काफिरों का खून और धन दोनों को नष्ट करने का अधिकार तुम्हारे पास है ।

 

सबसे अच्छी चीज जो आप कर सकते हैं वो ये है कि आप अपनी पूरी कोशिश करें और किसी भी अविश्वासी (काफिर) को मार डालें, चाहे वो फ्रांसीसी हो, अमेरिकी हो, या उनका सहयोगी हो।

 

अगर आप एक आईईडी या एक गोली नहीं ढूंढ पा रहे हैं, तो काफिर के सिर को चट्टान से फोड़ डालें या उसे चाकू से मार डालें या उसे अपनी कार से कुचल दें या उसे किसी ऊँचे स्थान से नीचे फेंक दें या उसका गला घोंट दें या उसे जहर दें ।

 

अगर आप ऐसा करने में असमर्थ हैं, तो उसके घर, कार या व्यवसाय को जला दें । या उसकी फसल को नष्ट कर दें।

 

अगर आप ऐसा भी नहीं कर सकते तो उसके मुंह पर थूक दें । ”

 

-ये ऊपर जो लिखा गया है ये दुनिया के सभी मुसलमानों को आईएसआईएस का आदेश था इसके बाद पेरिस लंदन और ग्लासगो में लोन वुल्फ आतंकवादी हमले हुए जिनमें से एक हमला ऐसा भी था जब एक जिहादी ने अल्लाह हु अकबर का नारा लगाकर ट्रक लेकर काफिर ईसाइयों की भीड़ को कुचल दिया था ।

 

-गोरखपुर में जब मुर्तजा को गिरफ्तार किया गया तो ये कहा गया कि ये व्यक्ति मानसिक रूप से विक्षिप्त है लेकिन अब जांच के बाद ये बात सामने आ रही है कि मुर्तजा के लैपटॉप पर जिहादी साहित्य मिला है वो इंटरनेट पर लून वुल्फ अटैक के बारे में सर्च कर रहा था ।

 

-एटीएस के दो सिपाही गोरखपुर में मुर्तजा के घर पर पहुंचे थे । पहले से ही एटीएस को मुर्तजा पर शक हो गया था क्योंकि वो देश विरोधी लोगों से लगातार संपर्क में था । मुर्तजा को एटीएस गोरखपुर में गिरफ्तार नहीं कर पाई क्योंकि वो नेपाल निकल चुका था लेकिन रमजान के पहले दिन और नवरात्र के पहले दिन उसने नेपाल से आकर सीधे गोरखनाथ मंदिर पर ही हमला कर दिया । खास बात ये है कि उसने गोरखपुर के किसी भी अन्य पुलिस थाने या दूसरे पुलिस के मौजूदगी वाली जगहों पर हमला नहीं किया । उसने गोरखनाथ मंदिर पर हमला करके वही बात साबित करने की कोशिश की जो आज से 300 साल पहले मुगल करते थे… जो औरंगजेब ने किया था कि तुम्हारे भगवान में दम नहीं है हम तुम्हारे भगवान पर हमला करते हैं और उनकी मूर्तियों को तोड़ देते हैं

 

-एटीएस इसलिए मुर्तजा की तलाश कर रही थी क्योंकि उसकी संलिप्तता देश विरोधियों के साथ थी नेपाल के उस मदरसे से उसका लिंक सामने आया है जो पाकिस्तानी आतंकवादियों और आईएसआई से लिंक के लिए बदनाम रहा है ।

 

-मुर्तजा ने पीएसी के सिपाही के गर्दन पर हमला करके सीधे उसकी गर्दन काटने की कोशिश की थी । और फिर उसकी राइफल लेकर गोरखनाथ मंदिर के अंदर श्रद्धालुओं पर अंधाधुंध फायरिंग का प्लैन बनाया था । लेकिन पीएसी का सिपाही झुक गया और अपनी गर्दन बचाने में किसी तरह कामयाब रहा ।

 

-देवबंद में भी मुर्तजा के दौरा करने के सबूत मिले हैं देवबंद का आतंकी कनेक्शन कई बार पहले भी सामने आता रहा है

 

(नोट- कई मित्रों ने 9990521782  मोबाइल नंबर दिलीप नाम से सेव किया है लेकिन मिस्ड कॉल नहीं की… *लेख के लिए मिस्ड कॉल और नंबर सेव…  दोनों काम करने होंगे* क्योंकि मैं ब्रॉडकास्ट लिस्ट से मैसेज भेजता हूं जिन्होंने नंबर सेव नहीं किया होगा उनको लेख नहीं मिलते होंगे.. जिनको लेख मिलते हैं वो मिस्डकॉल ना करें प्रार्थना)

 

– हिंदुस्तान में लोन वुल्फ अटैक का पहला मामला पश्चिम बंगाल के वर्दमान से सामने आया था । मूसा नाम का एक युवक जो कि जाकिर नायक के भाषण सुनते सुनते जुनून से भर गया । 2016 में मूसा का प्लान ये था कि वो और उसके दो साथी एक स्कूटर पर बैठेंगे और एक हिंदू काफिरों के भीड़ वाले बाजार में तलवारें लहराते हुए पहुंचेगे… वो उस स्कूटर के अलग बगल मौजूद हिंदुओं की गर्दनें तलवार से उतारते जाएंगे । मूसा ने पहले आईईडी खरीदने की कोशिश की लेकिन जब नही मिला तो उसने 13 इंच का चाकू खरीद लिया । हालांकि जैसे ही उसने ये चाकू खरीदा सुरक्षा एजेंसियों ने उसे गिरफ्तार कर लिया । ये मामला अभी भी अदालत में चल रहा है ।

 

-तो आप हमेशा अपने बगल में बैठे हुए जिहादी से सावधान रहिए ना जाने कब वो आप पर लोन वुल्फ अटैक कर दे… भारत को अब लोन वुल्फ अटैक से बचने के लिए प्रशिक्षित होना पड़ेगा

 

*(telegram app पर alakhanant सर्च करेंगे तो मेरा ग्रुप मिलेगा दिलीप पाण्डेय जिसमें मेरे सारे लेख हैं मेरा twitter account @alakh_anant है सर्च करिए मिल जाएगा Group मे आप अपने मित्रो को भी add friend कर पाएगे )*

 

धन्यवाद

भारत माता की जय

प्लीज शेयर इन ऑल ग्रुप्स