January 16, 2021

गरीबों की झोपड़ी की जमीन के पट्टे के लिए चलाएं अभियान : मुख्यमंत्री- अजय मिश्रा

Spread the love

*गरीबों की झोपड़ी की जमीन के पट्टे के लिए चलाएं अभियान : मुख्यमंत्री*

 

*जमीन रिजर्व श्रेणी की नहीं है और गैरविवादित नहीं है तो उसे संबंधित व्यक्ति के नाम करें*

*जिनको आवास मिला है उनको शासन की सभी योजनाओं से संतृप्त करें*

 

लखनऊ,29 दिसम्बर: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि जिस जमीन पर किसी गरीब की झोपड़ी है, वह उसके नाम होनी चाहिए। अगर ऐसी जमीन रिजर्व श्रेणी की नहीं है। उसे लेकर कोई विवाद नहीं है तो झोपड़ी की जमीन संबंधित व्यक्ति के नाम करने के लिए स्वामित्व योजना के तहत अभियान चलाएं। कुछ जिलों की तरह जरूरत के अनुसार गरीबों के आवास क्लस्टर में भी बनाए जा सकते हैं।

 

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को यहां अपने आवास पर मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत स्वीकृत 21562 आवासों के लाभाथियों के खाते में पहली किस्त के रूप में ₹ 87 करोड़ का हस्तातंरण किया।

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री आवास योजना के हर लाभार्थी को शासन की सभी योजनाओं (शौचालय, रसोइगैस, बिजली, आयुष्मान भारत, जीवन ज्योति और जीवन सुरक्षा आदि) से संतृप्त करने के लिए अभियान चलाएं।

इन लाभार्थियों को वहां की जरूरत के अनुसार स्वरोजगार के किसी कार्यक्रम (बकरी एवं मुर्गी पालन, डेयरी आदि) से जोड़ें। इस बाबत उनको जरूरी प्रशिक्षण दें और बैंकर्स से जोड़ कर जरूरी पूंजी उपलब्ध कराकर उनको स्वरोजगार के लिए प्रेरित करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि घर के लिए मिले पैसे का उपयोग घर के लिए ही हो स्थानीय प्रशासन इसे सुनिश्चित कराए। गरीबों को मकान बनाने के लिए ईंट, बालू, मिट्टी, छड़ आदि वाजिब दाम पर और आसानी से मिलें यह भी सुनिश्चित कराएं। इनकी आपूर्ति करने वालों से संपर्क करें। मकान के कार्य की प्रगति की साप्ताहिक समीक्षा करें। इसके लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करें।

 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस वर्ग के लोगों काे इस तरह के आवास मिलते हैं, वही टीबी, इन्सेफेलाइिटस, कालाजार और कुपोषण जनित रोगों के प्रति सर्वाधिक संवेदनशील होता है। इस वर्ग को गोशालाओं से चिन्हित कर पालने की शर्त के साथ एक स्वस्थ्य गाय दें। सरकार ऐसे गायों को पालने के लिए प्रति माह जो 900 रुपये देती है वह उसके खाते में दें। मनरेगा के तहत गायों के रहने के लिए छाजन भी बनाए जा सकते हैं। यह निराश्रित गोवंश की समस्या के हल के साथ कुपोषण के खिलाफ एक सफल जंग भी हो सकती है। साथ ही गाय के साथ जुड़ी आस्था का सम्मान भी।

 

कार्यक्रम के शुरू में अतिथियों का स्वागत ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र सिंह मोती ने किया। विभागीय मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल ने आभार जताया। कार्यक्रम में विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार के साथ विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

 

————-

*मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों से कहा, पैसे से घर ही बनाना साथ में शौचालय भी*

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने अलग-अलग जिलों के लाभार्थियों से बात की। नाम,पता, पति का काम, कितने बच्चे हैं आदि जैसे सवाल पूछे। यह भी पूछा कि शासन की किन-किन योजनाओं का लाभ मिला है। स्थानीय प्रशासन को निर्देश दिया कि इन सबको अभियान चलाकर शासन की सभी योजनाओं से संतृप्त करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि मिले पैसे से घर ही बनाना। साथ मे शाैचालय भी। बच्चों को नियमित स्कूल भेजें और उनको खूब पढ़ाएं।

जिन लाभार्थियों से मुख्यमंत्री ने बात की उनमें अयोध्या की प्रेमा, आजमगढ़ की सोनी, कुशीनगर की संगीता, जौनपुर की आशा, गोरखपुर के अक्षयबर, रायबरेली की अंशु, सोनभद्र की के बरई, वाराणसी की मीरा, प्रतापगढ़ के त्रिवेनी और मीरजापुर की मुनरीदेवी शामिल रहीं।