October 19, 2021

कोचिंग से होती हैं मुन्ना भाई से डिलिंग

Spread the love

*वाराणसी:* पुलिस भर्ती परीक्षा की शुचिता कायम रखने की खातिर एसएसपी आनंद कुलकर्णी पिछले दो दिनों से अधीनस्थों के साथ सड़क पर हैं। पुख्ता प्रबंधों का नतीजा रहा है कि कई ‘मुन्नाभाई’ धराये हैं। इनसे हुई पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने में गिरफ्तार युवकों का कहना है कि बिहार के पुलिस समेत दूसरी फोर्स में भर्ती वाले कोचिंग सेंटर से जुड़े लोगों ने सम्पर्क किया था। अभ्यर्थी को तो वह जानते-पहचानते नहीं अलबत्ता एक से सवा लाख रुपये के एवज वह यह रिस्क लिये थे। यह भी बताया कि उन्हें आश्वस्त किया गया था कि कोई गड़बडी नहीं होगी। वह पेपर साल्व कर देने है और बाहर निकलने के बाद शेष रकम का भुगतान आॅनलाइन खाते में कर दिया जायेगा। सोमवार को दूसरे के स्थानपर परीक्षा देने वालों को मुकदमा कायम करने के बाद हिरासत में ले लिया गया है।

*बिहार के निकले सभी साव्लर*

सिल्वर ग्रो स्कूल महेशपुर (मण्डुवडीह) में संजय कुमार यादव निवासी बसारतपुर कोपागंज (मऊ) के स्थानपर परीक्षा देने जा रहें दीपक कुमार निवासी नालंदा (बिहार) को पकड़ा गया। पूछताछ के दौरान दीपक ने कबूल किया कि मैं संजय यादव से एक लाख रुपए में तय करके उनके स्थान पर परीक्षा देने आया था जो बाहर खड़ा है। उसकी निशान देही पर संजय यादव को पकड़ लिया गया। उधर सुधाकर महिला पीजी कालेज (कैंट) में सिपाही भर्ती दूसरी पाली की परीक्षा में मानिकपुर कला करंडा (गाजीपुर) निवासी घनश्याम के बदले उसका फुफेरा भाई मुंगेर (बिहार) निवासी मुकेश कुमार जा रहा था। गेट पर प्रवेश पत्र की जांच के दौरान मुकेश पकड़ा गया तो उसे कैंट पुलिस को सौंप दिया गया। करसड़ा (रोहनिया) के एमपी में मोरियल स्कूल में भीमपुरा (बलिया) निवासी अखिलेश कुमार बदले पटना (बिहार) निवासी अरविंद कुमार मिस्त्री परीक्षा दे रहा था। प्रवेश पत्र सत्यापन में ही अरविंद पकड़ा गया और उसे पुलिस को सौंप दिया गया।