January 19, 2022

*किसानों मजदूरों का पिन्डरा तहसील पर धरना प्रदर्शन*

Spread the love

वाराणसी : पिन्डरा वाराणसी आज बुधवार को पिन्डरा तहसील के प्रांगण में उत्तर प्रदेश किसान सभा के अगुवाई में किसानों मजदूरों का हो रहे शोषण और सरकार के द्वारा किसानों को ₹6000 सालाना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत दिए जा रहे धन राशि को लेकर उत्तर प्रदेश किसान सभा के सचिव जयशंकर सिंह ने बताया कि आज शासन और प्रशासन के उपेक्षा के कारण किसान संतोषजनक खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है तथा विकास के नाम पर चालू की गई नई-नई उदारवादी आर्थिक नीतियों के कारण खेतीकिसानी कमरतोड़ घाटे का कारोबार बन गया है जिसके चलते उनका जीना दूभर हो गया है देश के हर दलित गरीब मजदूर परिवार को अपने ही देश में अपना एक निश्चित ठिकाना रहने के लिए नहीं है अनवरत संघर्षों के बाद खाद्य सुरक्षा और शिक्षा का अधिकार जैसे कानून हाथी के सफेद दांत साबित हो रहे हैं तथा भूमि अधिग्रहण अध्यादेश 2014 किसानों का परंपरागत अधिकार उनके पुश्तैनी खेत बाग तालाब छीनने को आमदा है किसानों को दी जाने वाली ₹6000 सालाना धानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना न केवल किसानों को मुंह चिढ़ा रही है अब उनका अपमान भी कर रही है इन सभी मांगों को लेकर 9 सूत्री मांग पत्र एस,डी,एम, पिन्डरा एन,एन,यादव के माध्यम से राष्ट्रपति तक पहुंचाने की मांग की है मांग पत्र में 60 वर्ष से अधिक उम्र के किसान मजदूर ग्रामीण दस्तकार आदि लोगों को ₹10000 प्रतिमाह पेंशन दिया जाए किसानों के कर्ज माफ की जाए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को अविलंब प्रभाव ढंग से लागू किया जाए तथा इन्हीं सभी मांगों सहित 9 सूत्री मांग पत्र एसडीएम पिन्डरा को सौंपा गया को धरना प्रदर्शन में प्रमुख रूप से श्याम लाल सिंह, नंदा राम शास्त्री ,चुनीलाल वर्मा, लालजी सिंह, शंकर साकेत, रामराज पटेल, लालमन ,पन्नालाल पटेल, लल्ला विश्वकर्मा ,मुसाफिर सिंह ,मालती देवी ,राजकुमार जायसवाल ,अवधेश पांडे ,सावित्री देवी ,सहित दर्जनों किसान सभा के लोग मौजूद रहे।